फेफड़ों को हो सकती है समस्‍या

फेफड़ों को हो सकती है समस्‍या

जब आप सांस लेते हैं, तो हवा से ऑक्सीजन आपके फेफड़ों में प्रवेश करती है और फिर यह आपके खून में जाती है। ऑक्सीजन तब खून के माध्यम से शरीर के सभी हिस्सों में पहुंच जाती है। सभी हिस्सों में ऑक्सीजन के पहुंचने से शरीर के सभी अंग और ऊतक सामान्य रूप से काम करते रहते हैं, लेकिन जब बहुत ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन ले जाती है, तो फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है। फेफड़े में मौजूद छोटी वायु की थैली (एल्वियोली) द्रव से भर सकती है या फेफड़ो दोबारा फूलने लायक नहीं रह जाते। जिसकी वजह से सामान्य रूप से हवा नहीं ग्रहण कर पाते। इससे फेफड़ों को ख़ून में ऑक्सीजन भेजने में मुश्किल होती है।

ज्यादा ऑक्सीजन भी मौत की वजह बन सकता है

ज्यादा ऑक्सीजन भी मौत की वजह बन सकता है

ऑक्सीजन फेफड़ों और फिर खून के जरिए आपके शरीर के दूसरे अंगों तक पहुंचती है। यही आपके अंगों के सामान्य कामकाज की ओर जाता है लेकिन आपके फेफड़ों को ऑक्सीजन की ज्यादा मात्रा मिलने से डैमेज्ड होने का खतरा होता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि एल्वियोली नामक छोटी वायु थैली जो आपके फेफड़ों में होती है, द्रव से भरी हो सकती है या वापस लेने योग्य नहीं होती है जो फेफड़ों को सामान्य रूप से हवा को ग्रहण करने की अनुमति नहीं दे सकती है। नतीजतन, ये खून तक पहुंचने के लिए ऑक्सीजन के लिए बहुत मुश्किल हो सकता है।

ज्यादा ऑक्सीजन भी मौत की वजह बन सकता है

ज्यादा ऑक्सीजन भी मौत की वजह बन सकता है

ऑक्सीजन फेफड़ों और फिर खून के जरिए आपके शरीर के दूसरे अंगों तक पहुंचती है। यही आपके अंगों के सामान्य कामकाज की ओर जाता है लेकिन आपके फेफड़ों को ऑक्सीजन की ज्यादा मात्रा मिलने से डैमेज्ड होने का खतरा होता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि एल्वियोली नामक छोटी वायु थैली जो आपके फेफड़ों में होती है, द्रव से भरी हो सकती है या वापस लेने योग्य नहीं होती है जो फेफड़ों को सामान्य रूप से हवा को ग्रहण करने की अनुमति नहीं दे सकती है। नतीजतन, ये खून तक पहुंचने के लिए ऑक्सीजन के लिए बहुत मुश्किल हो सकता है।

घर पर ही कर रहे हैं Oxygen Cylinder का Use, ना करें ये Mistakes | How to use Oxygen Cylinder at home

इन लक्षणों का न करें इग्‍नोर

इन लक्षणों का न करें इग्‍नोर

जब फेफड़े खून में सही तरीके से ऑक्सीजन नहीं पहुंचा पाते, तो इस तरह की परेशानी वाले लक्षण दिख सकते हैं:

– खांसी आना

– गले में हल्की जलन होना

– छाती में दर्द

– सांस लेने में तकलीफ़

– चेहरे और हाथों में मांसपेशियों का हिलना

– चक्कर आना

– धुंधला दिखना

– जी मिचलाना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP to LinkedIn Auto Publish Powered By : XYZScripts.com