अगर गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष बनते हैं तो क्या आप राजस्थान के CM बनेंगे? सचिन पायलट ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए गुरुवार को अधिसूचना जारी करने के साथ ही देश के सबसे पुराने राजनीतिक दल के सर्वोच्च पद पर आसीन होने वाले व्यक्ति को चुनने की प्रक्रिया औपचारिक रूप से आरंभ हो गई है. अब नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 24 से 30 सितंबर तक चलेगी. एक से अधिक उम्मीदवार होने पर 17 अक्टूबर को मतदान होगा और नतीजे 19 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर के चुनावी समर में उतरने के स्पष्ट संकेत दिए हैं.  22 साल बाद देश की सबसे पुरानी पार्टी का प्रमुख चुनाव के जरिये चुना जाएगा, इसकी संभावना प्रबल हो गई है. गहलोत ने कहा कि वह पार्टी का फैसला मानेंगे. इसी बीच, राहुल गांधी ने ‘एक व्यक्ति, एक पद’ की बात को दोहराकर गहलोत को झटका दिया है. गहलोत जल्दी ही राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल कर सकते हैं. गहलोत के इस इशारे के बाद अब कांग्रेस में ये चर्चा तेज हो गई कि क्या गहलोत की जगह सचिन पायलट राजस्थान में कमान संभालेंगे.
पायलट पार्टी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में हिस्सा लेने बुधवार को केरल पहुंचे हैं. इस दौरान जब पत्रकारों ने पायलट से पूछा कि अगर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ते हैं तो क्या आप उनका समर्थन करेंगे? उन्होंने इस सवाल का जवाब नहीं दिया. फिर जब उनसे सवाल किया गया कि अगर उनके प्रतिद्वंद्वी गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष बनते हैं तो क्या वह राजस्थान के मुख्यमंत्री बनेंगे? इस पर उन्होंने कहा, ‘इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन चुनाव लड़ता है. चुनाव के अंत में मजबूत कांग्रेस उभरकर सामने आएगी. उसके लिए हम सभी को मिलकर काम करने की जरूरत है. साथ मिलकर काम करने से ही हम बीजेपी को सत्ता से हटा पाएंगे.’

पायलट ने कहा कि फिलहाल वह अटकलें नहीं लगा सकते कि कौन चुनाव लड़ेगा. यह बात 24 सितंबर तक या उसके बाद ही स्पष्ट हो पाएगी. कांग्रेस नेता और राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि राहुल गांधी ऐसे शख्स है जो कठिन परिश्रम या संघर्षों से दूर नहीं भागते हैं. यही कारण है कि आम कार्यकर्ता उन्हें अग्रिम मोर्चे से नेतृत्व करते देखना चाहता है.

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रकिया के बीच राजस्थान में सियासी पारा गरम है. पायलट कैंप समझौते के मूड में नहीं. अशोक गहलोत अगर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनते हैं तो पार्टी के उदयपुर घोषणा पत्र के मुताबिक उन्हें 100 दिन में सीएम की कुर्सी छोड़नी होगी. सूत्रों का दावा है कि गहलोत की जगह पार्टी हाईकमान सचिन पायलट को राजस्थान का सीएम बनाने की कोशिश करेगा. पायलट की पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान में मजबूत पकड़ है, जिससे अगले साल हो रहे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सत्ता में वापसी की उम्मीद बढ़ जाएगी. सचिन पायलट कैंप ने भी पार्टी हाईकमान पर पायलट को सीएम बनाने के लिए दबाब बनाना शुरू कर दिया. हालांकि पायलट ने अभी अपने विधायकों को सार्वजनिक बयानबाजी से दूर रहने के लिए कहा है.

(इनपुट भाषा से भी)

Tags: Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot, Congress President, Sachin pilot

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *