अब आसान नहीं होगा फ्लाइट में शराब पीना! Air India ने लिकर पॉलिसी में किया बदलाव

नई दिल्ली. पेशाब कांड के बाद विमानन कंपनी एअर इंडिया ने लिकर पॉलिसी को तीन अलग-अलग कलर में बांटा है. इसमें लाल, पीला और हरा रंग शामिल है. हरा रंग का मतलब फ्लाइट में सवार पैसेंजर एकदम नॉर्मल है. अच्छे से बातचीत कर रहा है. फ्लाइट के क्रू मेंबर्स से सही तरीके से पेश आ रहा है और उसे शराब पेश की जा सकती है. पीले रंग का मतलब, यात्री थोड़ा शराब के नशे में है. क्रू से अच्छे से  बात नहीं कर रहा है. आखें हल्की लाल हो चुकी है. क्रू मेंबर्स उसे समझाएंगे की और अधिक शराब का सेवन फ्लाइट में ना करे.

वहीं लाल रंग मतलब यात्री कभी नशे में, चल नही सकता है. आंखें पूरी लाल है. किसी से बदतमीजी से बात कर रहा है, उसे शराब नहीं दी जाएगी. इसके अलावा यह फैसला लिया गया है कि एअर इंडिया के क्रू किसी भी यात्री को ड्रंक नही बोलेंगे. एअर इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि हमने यूएस नेशनल रेस्तरां एसोसिएशन के दिशानिर्देशों और अन्य विमानन कंपनियों के प्रैक्टिस और इनपुट से रेफरेंस लेते हुए हमारी मौजूदा इन-फ्लाइट अल्कोहल सेवा नीति की समीक्षा की है.

एअर इंडिया ने बयान जारी करते हुए कहा कि उड़ान के दौरान शराब सुरक्षित ढंग से परोसी जाएगी, यात्रियों को दोबारा शराब परोसने से मना करने के लिए समझदारी से काम लिया जाएगा. बता दें कि एअर इंडिया पेशाब कांड के बाद से ही टाटा ग्रुप की इस एयरलाइन की नीतियों को लेकर सवाल उठने लगे थे. खासकर विमान में यात्रियों को दी जाने वाली शराब को लेकर एयरलाइन की नीति सवालों के घेरे में थी. एअर इंडिया के सीईओ ने खुद कहा था कि वे एयरलाइन की शराब नीति की समीक्षा करेंगे. उन्होंने यह भी कहा था कि इस मामले को स्टाफ को बेहतर ढंग से संभालना चाहिए था.

Tags: Air india, DGCA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *