आयुष मंत्रालय ऑस्‍ट्रेलिया में खोलने जा रहा एकेडमिक चेयर, आयुर्वेद की कर सकेंगे पढ़ाई

नई दिल्‍ली. आयुष मंत्रालय ने वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी, ऑस्ट्रेलिया में आयुर्वेदिक विज्ञान में शैक्षणिक पीठ (एकेडमिक चेयर) स्थापित करने की घोषणा की है. वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी के एनआईसीएम हेल्थ रिसर्च इंस्टीट्यूट में तीन वर्ष की अवधि के लिए आयुर्वेद शैक्षणिक (एकेडमिक चेयर) की स्थापना की जाएगी. जिसके अकादमिक पीठ के रूप में अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए), नई दिल्ली के एसोसिएट प्रोफेसर और प्रमुख (कौमारभृत्य विभाग) डॉ. राजगोपाला एस. को नियुक्‍त किया गया है.

आयुष मंत्रालय में सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने पश्चिमी सिडनी विश्वविद्यालय (वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी) के कुलपति एवं अध्यक्ष प्रोफेसर बार्नी ग्लोवर और अन्य के नेतृत्व में ऑस्ट्रेलियाई प्रतिनिधिमंडल से भेंट की. इस अवसर पर कोटेचा ने कहा, ‘यह एक अच्छा कदम है और मुझे विश्‍वास है कि यह पीठ ऑस्ट्रेलिया में अकादमिक और सहयोगी अनुसंधान गतिविधियों को बढ़ावा देने में भारत के सहयोग को मजबूत करेगी. यह हमारे वैज्ञानिक अभ्यासों के विश्वसनीय साक्ष्य के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल वितरण प्रणाली के साथ इसे एकीकृत करने के लिए अनुसंधान परिणामों के अनुप्रयोगों में भी सहायक होगा.’

वहीं वेस्टर्न सिडनी यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. बार्नी ग्लोवर ने स्वीकार किया कि यह सहयोग पश्चिमी चिकित्सा और आयुर्वेदिक विज्ञान को एक साथ लाने में मदद करेगा. यह अकादमिक पीठ आयुर्वेद में शैक्षणिक और सहयोगी अनुसंधान गतिविधियों का संचालन करेगा, जिसमें वानस्पतिक औषधियों एवं योग के साथ ही अकादमिक मानकों और छोटी अवधि या मध्यम अवधि के पाठ्यक्रम और शैक्षिक दिशानिर्देश भी शामिल हैं. यह मजबूत ऑस्ट्रेलियाई नियामक ढांचे के भीतर, आयुर्वेद से संबंधित शिक्षण, अनुसंधान और नीति विकास में बेहतरी लाने और उसे बढ़ावा देने में अकादमिक नेतृत्व प्रदान करेगा साथ ही पारंपरिक स्वास्थ्य देखभाल में साक्ष्य आधारित आयुर्वेद औषधियों के प्रयोगों और एकीकरण को बढ़ावा देने के लिए रणनीति विकसित करेगा.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर


  • मध्‍य एशिया के लोग भारतीय सिनेमा को करते हैं पसंद, दिल्‍ली में बालीबुड के गीतों पर किया कला का प्रदर्शन

    मध्‍य एशिया के लोग भारतीय सिनेमा को करते हैं पसंद, दिल्‍ली में बालीबुड के गीतों पर किया कला का प्रदर्शन


  • श्रद्धा मर्डर केस: आफताब को बेनकाब करेगी ब्रेन मैपिंग! एक्सपर्ट बोले- ऐसे लोग मानसिक बीमार नहीं, लेकिन...

    श्रद्धा मर्डर केस: आफताब को बेनकाब करेगी ब्रेन मैपिंग! एक्सपर्ट बोले- ऐसे लोग मानसिक बीमार नहीं, लेकिन…


  • एमसीडी चुनाव: AAP पर पैसे लेकर टिकट देने का आरोप लगाने वाले की BJP में एंट्री

    एमसीडी चुनाव: AAP पर पैसे लेकर टिकट देने का आरोप लगाने वाले की BJP में एंट्री


  • बीजेपी पहली पार्टी जो बिना चुनाव लड़े भी मुस्लिमों को बनाती है मंत्री, बोले-BJP ओबीसी मोर्चा प्रमुख डॉ. लक्ष्‍मण

    बीजेपी पहली पार्टी जो बिना चुनाव लड़े भी मुस्लिमों को बनाती है मंत्री, बोले-BJP ओबीसी मोर्चा प्रमुख डॉ. लक्ष्‍मण


  • DUET Result 2022: इस विषय के लिए जारी हुआ डीयू प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट, जान लें कहां करना है चेक

    DUET Result 2022: इस विषय के लिए जारी हुआ डीयू प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट, जान लें कहां करना है चेक


  • क्या भूत VIDEO लीक कर रहा, गाजर-मूली खाने लायक भी नहीं रहने देंगे? नए-नए वीडियो से परेशान सत्येंद्र जैन ने ऐसे उतारी खीज

    क्या भूत VIDEO लीक कर रहा, गाजर-मूली खाने लायक भी नहीं रहने देंगे? नए-नए वीडियो से परेशान सत्येंद्र जैन ने ऐसे उतारी खीज


  • कर्नाटक हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, गोद लिया बेटा या बेटी भी अब अनुकंपा नौकरी का हकदार

    कर्नाटक हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, गोद लिया बेटा या बेटी भी अब अनुकंपा नौकरी का हकदार


  • 'चुनाव आयुक्त की नियुक्ति में चीफ जस्टिस से भी लिया जाए परामर्श', सुप्रीम कोर्ट की अहम टिप्पणी

    ‘चुनाव आयुक्त की नियुक्ति में चीफ जस्टिस से भी लिया जाए परामर्श’, सुप्रीम कोर्ट की अहम टिप्पणी


  • साहिबाबाद मंडी के बाद एक और सरकारी विभाग पर प्रदूषण फैलाने के लिए लगा जुर्माना, ये है विभाग

    साहिबाबाद मंडी के बाद एक और सरकारी विभाग पर प्रदूषण फैलाने के लिए लगा जुर्माना, ये है विभाग


  • जीडीए बोर्ड बैठक में कई अहम प्रस्‍ताव पेश, जानें सबसे खास

    जीडीए बोर्ड बैठक में कई अहम प्रस्‍ताव पेश, जानें सबसे खास


  • बिजली संशोधन विधेयक- 2022 के विरोध में दिल्ली में प्रदर्शन, कई यूनियनों ने दिया केंद्र सरकार को यह अल्टीमेटम

    बिजली संशोधन विधेयक- 2022 के विरोध में दिल्ली में प्रदर्शन, कई यूनियनों ने दिया केंद्र सरकार को यह अल्टीमेटम

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

आयुष मंत्रालय ने भारत की सॉफ्ट पावर के रूप में आयुर्वेद और योग को बढ़ावा देने तथा उसे स्थापित करने के लिए ठोस प्रयास किए हैं. इसे सुविधाजनक बनाने के लिए 16 देशों के साथ आयुष पीठ के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं. आयुष मंत्रालय ने अंतर्राष्ट्रीय सहयोग (आईसी योजना) को बढ़ावा देने के लिए एक केंद्रीय क्षेत्र की योजना भी विकसित की है जो कि आयुष चिकित्सा पद्धति के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने और मजबूत करने के लिए, विदेशों में आयुष प्रणालियों के अंतर्राष्ट्रीय प्रचार, विकास और मान्यता को सुविधाजनक बनाने तथा विशेषज्ञों के आदान-प्रदान हेतु अंतर्राष्ट्रीय समर्थन के लिए है.

Tags: Ayurveda Doctors, Ayurvedic, Ayushman Bharat, Ayushman Bharat scheme

Share
Facebook Twitter Pinterest Linkedin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *