कड़कड़ाती ठंड में नहीं पहनेंगे गर्म कपड़े, इन 4 बीमारियों का हो जाएंगे शिकार, भूलकर भी न करें ये गलतियां

हाइलाइट्स

सर्दी में पैर गीले रखने से ट्रेंच फुट की परेशानी हो सकती है.
अत्यधिक सर्दी आपके शरीर को काफी इंजरी पहुंचा सकती है.

Cold Wave Prevention Tips: सर्दी के मौसम में अधिकतर लोगों का सपना होता है कि वे पहाड़ों पर जाएं और बर्फबारी का जमकर लुत्फ उठाएं. बड़ी संख्या में लोग इस मौसम में हिल स्टेशन का रुख करते हैं और मौसम का मजा लेते हैं. एंजॉयमेंट के चक्कर में कुछ लोग अपनी हेल्थ पर ध्यान नहीं दे पाते और बड़ी मुसीबत में फंस जाते हैं. जानकार हमेशा कहते हैं कि कम तापमान में अगर आप घर से बाहर निकलते हैं तो अपनी सेफ्टी का पूरा ध्यान रखना चाहिए. खासतौर से पहाड़ों पर जाते वक्त बिल्कुल भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए.

अधिकतम तापमान में अगर आप सही मात्रा में गर्म कपड़े नहीं पहनेंगे तो आपके शरीर का तापमान तेजी से कम हो सकता है और आप हाइपोथर्मिया, फ्रॉस्टबाइट समेत कई गंभीर कंडीशन का शिकार हो सकते हैं. यह सभी इमरजेंसी मेडिकल कंडीशन हैं, जिनमें व्यक्ति को सही समय पर इलाज न मिले तो कुछ ही मिनट में जान जा सकती है. आज आपको बताएंगे कि अत्यधिक सर्दी में रहने पर किन समस्याओं का शिकार हो सकते हैं. साथ ही इन परेशानियों से कैसे बचा जा सकता है.

अत्यधिक सर्दी से हो सकती हैं ये 4 समस्याएं

हाइपोथर्मिया (Hypothermia)- सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (CDC) की रिपोर्ट के मुताबिक हाइपोथर्मिया एक ऐसी कंडीशन होती है, जिसमें अत्यधिक सर्दी के संपर्क में आने पर शरीर का तापमान तेजी से कम होने लगता है. शरीर की स्टोर की गई एनर्जी भी इखत्म हो जाती है और शरीर ठंडा व नीला पड़ जाता है. इस कंडीशन में व्यक्ति कंपने लगता है और सोचने समझने की क्षमता खत्म हो जाती है. सही समय पर इलाज न मिले, तो हाइपोथर्मिया से कुछ घंटों में ही मौत भी हो सकती है. यह समस्या प्रॉपर तरीके से गर्म कपड़े न पहनने पर होती है.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

यह भी पढ़ें- डायबिटीज का हो जाएगा काम-तमाम, यह सब्जी खरीदें और रस निकालकर पी लें

फ्रॉस्टबाइट (Frostbite)- अत्यधिक सर्दी की वजह से शरीर के कुछ हिस्सों पर इंजरी हो जाती है और वे हिस्से सुन्न हो जाते हैं. उनका रंग भी बदल जाता है. इस कंडीशन को फ्रॉस्टबाइट कहते हैं. इससे शरीर के  ऊतक (Tissues) परमानेंटली डैमेज हो सकते हैं. आमतौर पर यह परेशानी नाक, कान, उंगलियों, अंगूठे और गालों को प्रभावित करती है. फ्रॉस्टबाइट की समस्या भी अत्यधिक सर्दी में सही तरीके से गर्म कपड़े न पहनने पर होती है.

ट्रेंच फुट (Trench Foot)- जब सर्दियों में आपके पैर गीले बने रहते हैं तो पैरों में इसकी वजह से इंजरी हो जाती है, जिसे ट्रेंच फुट कहा जाता है. इस कंडीशन में पैरों तक खून की सही तरीके से सप्लाई नहीं हो पाती और ऑक्सीजन की कमी से स्किन के टिशू (Tissue) मरने लगते हैं. ऐसे में सभी को याद रखना चाहिए कि सर्दियों में पैर गीले न रखें. किसी भी मौसम में पैर गीले रखने से परेशानी हो सकती है.

यह भी पढ़ें- दूध पीने का सही समय जानते हैं आप? इस वक्त पीएंगे तो मिलेगा ज्यादा फायदा

चिलब्लेंस (Chillblains)- बहुत कम तापमान में काफी देर तक रहने के बाद अगर आप तुरंत काफी गर्म जगह पर पहुंच जाएंगे, तो इससे आपकी स्किन की ब्लड वेसल्स डैमेज हो जाएंगी. इस कंडीशन को चिलब्लेंस कहा जाता है. स्किन पर इसकी वजह से रेडनेस आ जाती है और खुजली भी होने लगती है. आमतौर पर यह परेशानी कान, उंगलियों, अंगूठा और गालों पर होती है.

कैसे करें इन परेशानियों से बचाव?

– सर्दी में घर से बाहर निकलते वक्त गर्म कपड़ों की कई लेयर बनाएं और उसे पहनें. ज्यादा सर्दी वाली जगहों पर न जाएं और गर्म चीजों का सेवन करते रहें.
–  अगर आप पहाड़ों पर हैं तो वहां अपने साथ गर्म कपड़े ले जाएं और स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहें.
– अपने हाथ और पैरों को सर्दी के मौसम में कम से कम गीला करें और सभी एहतियात बरतें.
– अचानक से ठंडे माहौल से निकलकर बहुत गर्म जगह पर ना जाएं वरना आपको समस्या हो सकती है.

Tags: Health, Lifestyle, Trending news, Winter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *