करण जौहर ने मानी गलती! बॉलीवुड की फ्लॉप फिल्मों के लिए खुद को भी माना जिम्मेदार

हाइलाइट्स

करण जौहर के अनुसार, 70 के दशक की जड़ों को हमने छोड़ दिया.
फिल्मों का बिजनेस 70 करोड़ से घटकर 30 करोड़ रुपये हुआ.

मुंबई. पिछले कुछ समय में बॉलीवुड फिल्मों की सफलता के आंकड़े पर गौर किया जाए तो ग्राफ नीचे आता दिखेगा. फिल्मों के कंटेंट को लेकर लगातार प्रश्न उठाए जा रहे हैं. साथ ही सिर्फ ​रीमेक बनाने पर जोर दिए जाने पर भी चर्चा होती रहती है. अब इस कड़ी में फिल्ममेकर करण करण जौहर ने बॉलीवुड की असफलता का ठीकरा खुद पर फोड़ा है. उनके अनुसार, इस असफलता में कहीं ना कहीं वे भी जिम्मेदार हैं.

बीते कुछ समय में जहां क्षेत्रीय सिनेमा उभरकर सामने आया है. वहीं, बॉलीवुड में लगातार फिल्में फ्लॉप हो रही हैं. साथ ही फिल्मों की कमाई का प्रतिशत भी गिरा है. इसे लेकर हाल ही यू-ट्यूब चैनल गलट्टा प्लस पर कई सेलेब्स का इंटरव्यू हुआ. इस दौरान बॉलीवुड फिल्मों के फ्लॉप होने पर भी बातचीत हुई. इस दौरान करण ने माना कि इसके लिए कहीं ना कहीं वे भी जिम्मेदार हैं.

घट गया है अब बिजनेस
करण का का बातचीत के दौरान कहना था, ‘फिल्मों के बिजनेस पर बीते कुछ समय से फर्क पड़ा था क्योंकि अब दिल्ली व मुंबई के 60 से 70 प्रतिशत दर्शक ही फिल्में देखने जा रहे हैं. कोरोना से पहले जिस तरह से लोग फिल्में देखने जाया करते थे, उस तरह से कोरोना के बाद नहीं जा रहे हैं. अब फिल्में पहले की तरह कमाई नहीं कर रही हैं. जो फिल्में पहले 70 करोड़ रुपये तक का व्यवसाय कर लेती थीं. अब उन्हीं फिल्मों का बिजनेस घटकर 30 करोड़ रुपये तक आ गया है.

<youtubeembed cat="entertainment" creationdate="December 10, 2022, 11:40 IST" title="करण जौहर ने मानी गलती! बॉलीवुड की फ्लॉप फिल्मों के लिए खुद को भी माना जिम्मेदार" src="https://www.youtube.com/embed/8fjk0UX1E5w" item="” isDesktop=”true” id=”5029781″ >

खुद को भी माना जिम्मेदार
हिंदी सिने जगत को लेकर करण का कहना था कि यहां दृढ़ विश्वास और आस्था की कमी है. उनका कहना था, ’70 के दशक में हमारे पास सलीम जावेद जैसे लोग थे, जो जीवं​त किरदारों को उकेरते थे. वे लोग असल किरदारों को गढ़ते थे. लेकिन फिर 80 के दशक में हमने रीमेक पर ध्यान देना शुरू कर दिया. इसके बाद 90 के दशक में सिर्फ लव स्टोरीज बनने लगीं. यानी हम सभी भेड़चाल का हिस्सा बन गए और इसमें मैं भी शामिल हूं. हमने हमारी पुरानी जड़ों को खो दिया. दरअसल, हम लाइन से हट गए और स्विटजरलैंड जाकर कहानियां गढ़ने लगे.’

Tags: Karan johar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *