'जब कसाब को जेल में….', मंत्री सत्येंद्र जैन का छलका दर्द, कहा- 28 किलो कम हुआ वजन

हाइलाइट्स

मंगलवार को ट्रायल कोर्ट में सत्येंद्र जैन की याचिका पर सुनवाई की गई.
ट्रायल कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 28 नवंबर तय की है.
कोर्ट में सत्येंद्र जैन ने जेल में मिलने वाले भोजन की शिकायत की.

नई दिल्ली. तिहाड़ जेल में कथित तौर पर वीआईपी ट्रीटमेंट का वीडियो वायरल होने के बाद से दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन एक बार फिर सुर्खियों में छा गए हैं. वायरल वीडियो को लेकर एक तरफ जहां भाजपा और कांग्रेस हमलावर हो रही है. वहीं आम आदमी पार्टी के नेता लगातार सत्येंद्र जैन का बचाव कर रहे हैं. इस बीच अवमानना याचिका की सुनवाई के दौरान दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने ट्रायल कोर्ट को जानकारी देते हुए कहा कि उन्हें जेल में उचित भोजन और चिकित्सा जांच भी नहीं मिल रही है.

वहीं सत्येंद्र जैन के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता राहुल मेहरा ने कहा कि हिरासत में सत्येंद्र जैन का लगभग 28 किलो वजन कम हो गया है. विशेष न्यायाधीश विकास ढुल ने केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी के खिलाफ सत्येंद्र जैन की अवमानना ​​याचिका पर सुनवाई की. अदालत ने मामले की सुनवाई की अगली तारीख 28 नवंबर तय किया है.

अदालत के आदेश के बाद भी लीक हो रही है जानकारीः सत्येंद्र जैन
आप नेता सत्येंद्र जैन के वकील ने यह भी तर्क दिया कि प्रवर्तन निदेशालय, जो जैन द्वारा कथित मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहा है, अदालत के आदेशों के बावजूद मीडिया को संवेदनशील जानकारी लीक कर रहा है. सत्येंद्र जैन ने कहा, “ईडी की हरकतों से मुझे हर मिनट बदनाम किया जाता है.”

कसाब तक की हुआ था फेयर ट्रायलः जैन
सुनवाई के दौरान सत्येंद्र जैन ने 26/11 के मुंबई हमले के लिए फांसी पर लटकाए गए पाकिस्तानी आतंकवादी का जिक्र करते हुए कहा, “यहां तक ​​कि अजमल कसाब को भी स्वतंत्र और निष्पक्ष सुनवाई मिली.” साथ ही उन्होंने कहा, “मैं निश्चित रूप से इससे बुरा नहीं हूं. मैं केवल एक निष्पक्ष और फेयर ट्रायल चाहता हूं.”

सत्येंद्र जैन ने ईडी के विशेषाधिकार प्राप्त इलाज के आरोपों का भी खंडन किया. उन्होंने कहा कि वे किस विशेषाधिकार की बात कर रहे हैं. मैंने जेल में 28 किलो वजन कम किया है. क्या जेल में एक विशेषाधिकार प्राप्त व्यक्ति को यही मिलता है? मुझे उचित भोजन भी नहीं मिल रहा है. जेल के नियमों का उल्लंघन नहीं किया जाता है.

Tags: Delhi AAP, Satyendra jain

Share
Facebook Twitter Pinterest Linkedin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *