जलवायु परिवर्तन को लेकर भारत की बड़ी उपलब्धि: G20 देशों में सर्वश्रेष्‍ठ और दुनिया के टॉप 5 में हुआ शामिल

नई दिल्ली. जलवायु परिवर्तन (climate change) के प्रदर्शन के आधार पर भारत को विश्व के शीर्ष पांच देशों में शुमार किए जाने के साथ ही जी-20 देशों में भारत को सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया गया है. एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई. जर्मनी के ‘जर्मन वॉच, न्यू क्लाइमेट इंस्टीट्यूट एंड क्लाइमेट एक्शन नेटवर्क इंटरनेशनल’ द्वारा प्रकाशित जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक (सीसीपीआई 2023) के अनुसार, भारत ने दो स्थानों की छलांग लगाईं है और अब यह 8वें स्थान पर है.

सीसीपीआई का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जलवायु परिवर्तन क्षेत्र में पारदर्शिता बढ़ाने के साथ ही इसे जलवायु संरक्षण प्रयासों एवं अलग-अलग देशों द्वारा की गई प्रगति की तुलना करने में सक्षम बनाना है. वर्ष 2005 के बाद से प्रतिवर्ष प्रकाशित होने वाला यह सूचकांक 59 देशों और यूरोपीय संघ के जलवायु संरक्षण प्रदर्शन पर नजर रखने के लिए एक स्वतंत्र निगरानी उपकरण है.

 सभी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत सबसे अच्छे पायदान पर 

ऊर्जा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘जलवायु परिवर्तन के प्रदर्शन के आधार पर भारत को विश्व के शीर्ष पांच देशों में एवं जी-20 देशों में सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया गया है.’ नवंबर 2022 में सीओपी-27 में जारी सीसीपीआई की नवीनतम रिपोर्ट के मुताबिक, डेनमार्क, स्वीडन, चिली और मोरक्को जैसे चार छोटे देश क्रमशः चौथे, पांचवें, छठे और सातवें स्थान पर रहे. इसके मुताबिक, किसी भी देश को पहला, दूसरा और तीसरा स्थान नहीं दिया गया. इसलिए, सभी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत सबसे अच्छे पायदान पर रहा.

अक्षय ऊर्जा क्षेत्र के कार्यक्रमों को बहुत तेज गति से लागू कर रहा भारत 

सीसीपीआई ने भारत को शीर्ष 10 स्थानों में एकमात्र जी-20 देश के रूप में रखा है. केंद्रीय विद्युत और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह ने कहा कि भारत की जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक (सीसीपीआई) श्रेणी महामारी और चुनौतीपूर्ण आर्थिक माहौल के बावजूद वैश्विक जलवायु परिवर्तन का समाधान निकालने की दिशा में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा दिखाए गए नेतृत्व का प्रमाण है. उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर शीर्ष पांंचवां स्थान पाना यह दर्शाता है कि भारत अब विश्व में किसी भी देश की तुलना में अक्षय ऊर्जा क्षेत्र के कार्यक्रमों को बहुत तेज गति से लागू कर रहा है.

Tags: Climate Change, Climate change report

Share
Facebook Twitter Pinterest Linkedin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *