दिल्लीः ड्यूटी के दौरान शहीद हुए एएसआई शंभू दयाल को मिल सकता है गैलेंट्री अवॉर्ड

दिल्ली. ड्यूटी के दौरान शहीद हुए दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के एएसआई शंभू दयाल को वीरता के लिए मरणोपरांत गैलेंट्री पदक मिल सकता है. सहायक उप-निरीक्षक शम्भू दयाल ने ड्यूटी के दौरान अनीश राज नाम के एक बदमाश को पकड़ा था. इस दौरान आरोपी अनीश को पकड़ने के बाद उसे थाना लेकर जा रहे थे. उसी दौरान कई दर्जन लोगों के सामने ही उस बदमाश ने अपने पीछले पॉकेट से चाकू निकालकर ताबड़तोड़ हमला करके शंभू दयाल को गंभीर रूप से घायल कर दिया था.  दिवंगत शम्भू दयाल को वीरता पुरस्कार से नवाजे जाने की घोषणा 25 जनवरी को की जा सकती है.

दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी सूत्र ने बताया कि दिवंगत शंभू दयाल के नाम को भी दिल्ली पुलिस (Delhi police)  के तरफ से  केंद्रीय गृहमंत्रालय (MHA)  भेजा गया है , जहां से बुधवार 11 बजे के बाद औपचारिक तौर पर तमाम नामों की घोषणा कर दी जाएगी . सूत्रों के मुताबिक दिवंगत शंभू दयाल की असाधारण वीरता की वजह और ड्यूटी के दौरान जान गंवाने के चलते उनके परिवार को मरणोपरांत गैलेंट्री पदक पुरस्कार प्रदान किया जा सकता है.

सरेआम हुई थी ASI शंभू दयाल की हत्या

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

शंभू दयाल मूल रूप से राजस्थान के सीकर जिला अंतर्गत  गवली गांव के रहने वाले थे. दिल्ली पुलिस के मुताबिक चार जनवरी को एक बदमाश ने चाकू मारकर उन्हें बेहद गंभीर रुप से घायल कर दिया था. उस दौरान भी वह उस बदमाश के साथ अकेले ही लड़ते रहे. उनकी बहादुरी को उस इलाके के लोग सरेआम तमाशा के जैसे देखते रहे, लेकिन किसी ने डर के चलते पास जाने की हिम्मत नहीं किया. लेकिन शंभू दयाल को अपने कर्त्तव्य यानी ड्यूटी का ध्यान था. इतने उम्रदराज होने के बाबजुद उस बदमाश से लड़ते रहे. उनकी ये कोशिश थी की वो बदमाश मौके से कहीं फरार नहीं हो सके.

चार दिन बाद इलाज के दौरान हो गई मौत

बेहद गंभीर रुप से घायल होने के बाद उन्हें पास में ही स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करवाया गया. चार दिनों तक इलाज के बाद आठ जनवरी को अस्पताल में ही  शंभू दयाल की मौत हो गई थी. उसके बाद उनके उनके मौत की ख़बर सुनते ही खुद दिल्ली पुलिस कमिश्नर संजय आरोड़ा, स्पेशल कमिश्नर सागर प्रीत हुड्डा, एडीशनल कमिश्नर चिन्मय बिस्वाल, डीसीपी घनश्याम बंसल इत्यादि अस्पताल से लेकर उनके दिल्ली स्थित आवास तक गए और उनके परिजनों को सांत्वना और श्रद्धांजलि अर्पित की थी. पुलिस कमिश्नर संजय अरोड़ा ने दिवंगत शंभू दयाल के पार्थिव शरीर कांधा दिया था. करीब 57 साल के शंभू दयाल ने 30 सालों तक दिल्ली पुलिस की सेवा में रहे. दिवंगत शम्भू दयाल की बहादुरी को दिल्ली पुलिस में हर कोई एक मिसाल बता रहे हैं.

Tags: Delhi News Alert, Delhi police, Republic day

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *