दिल्ली आबकारी घोटाला केस: मुंबई से हैदराबाद तक एक्शन ही एक्शन, ED ने अटैच की ₹76 करोड़ से अधिक की संपत्ति

नई दिल्ली: दिल्ली के बहुचर्चित आबकारी घोटाले मामले (Delhi Excise Scam) में ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय ने इस केस से जुड़े आरोपियों की ₹76 करोड़ से ज्यादा की संपत्तियों को आरंभिक तौर पर अटैच किया है. बताया गया कि जो संपत्तियां आरंभिक तौर पर अटैच की गई हैं, उनमें दिल्ली, मुंबई, गुरुग्राम और हैदराबाद आदि जगह शामिल हैं. प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी के मुताबिक, जिन आरोपियों की संपत्तियों को आरंभिक तौर पर अटैच किया गया है, उनमें समीर महेंद्रू और गीता महेंद्रु के आवासीय परिसर शामिल हैं, जिनकी कीमत लगभग 35 करोड़ रुपए बताई गई है.

इतना ही नहीं, ईडी के अधिकारी ने बताया कि आरोपी अमित अरोड़ा की गुड़गांव स्थित लगभग 7. 45 करोड़ रुपए की संपत्ति, आरोपी विजय नायर की क्रिसेंट बे परेल मुंबई में लगभग पौने दो करोड़ रुपए की संपत्ति, आरोपी दिनेश अरोड़ा की लगभग सवा 3 करोड़ रुपए की संपत्तियों को अटैच किया गया है. इसके अलावा आरोपी अरुण के स्वामित्व वाली हैदराबाद के वट्टीन गुल्लापल्ली में सवा दो करोड़ रुपए के लगभग 50 वाहन के अलावा ₹10 करोड़ से ज्यादा के बैंक बैलेंस-फिक्स्ड डिपॉजिट आदि शामिल हैं.

प्रवर्तन निदेशालय का दावा है कि इस मामले की जांच के दौरान पता चला है कि भ्रष्टाचार और साजिश के चलते सरकारी खजाने को 2873 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. प्रवर्तन निदेशालय ने इस मामले की मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत की गई जांच के तहत इन संपत्तियों का पता लगाया है. आरोप है कि घोटाले के पैसों से ही यह संपत्तियां खरीदी गई थीं. ईडी ने इस मामले में अब तक दिल्ली, हैदराबाद, चेन्नई, मुंबई और देश के अन्य स्थानों पर छापेमारी की है. इस छापेमारी के दौरान ही घोटाले से प्राप्त संपत्ति के अनेक स्थानों पर डायवर्जन का पता चला था, जिसके बाद ईडी ने इन संपत्तियों को आरंभिक तौर पर अटैच करने की कार्रवाई शुरू की.

ईडी इस मामले में अब तक छह आरोपियों विजय नायर, समीर महेंद्रु, अमित अरोड़ा, सारस रेड्डी, विनय बाबू और अभिषेक बोइनपल्ली को गिरफ्तार कर चुका है. ईडी इस मामले की जांच के दौरान अब तक दो आरोपपत्र कोर्ट के सामने पेश कर चुका है. मामले में शामिल कई आरोपी अभी भी न्यायिक हिरासत में जेल में हैं. फिलहाल मामले की जांच जारी है. यहां बताना जरूरी है कि इस मामले की जांच के दौरान दिल्ली सरकार में शामिल अनेक बड़े अधिकारियों के नाम भी सामने आए थे, जिसकी जांच अभी जारी है.

Tags: Delhi news, Directorate of Enforcement, Excise Department, Excise Policy, New excise policy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *