दूध हुआ मंहगा: सरस डेयरी ने प्रति किलो 2 रुपये बढ़ाए, उपभोक्ताओं पर पड़ेगी महंगाई की मार

हाइलाइट्स

सरस डेयरी ने एक ही दिन में सर्वाधिक 43.3 लाख लीटर दूध एकत्रित कर वाह-वाही लूटी थी
पिछले साल की तुलना में चारे के साथ-साथ पशु आहार की कीमत में पचास फीसदी से ज्यादा की वृद्धि

जयपुर. सरस डेयरी (Saras Dairy) ने सभी प्रकार के दूध के ब्रांड की कीमतों (Milk Prices) में वृद्धि कर दी है. सरस का गोल्ड दूध 62 रुपए प्रति किलो की जगह 64 रुपए प्रति किलो की दर से मिलेगा. इसी प्रकार सरस स्टैण्डर्ड (शक्ति) दूध की कीमत अब 54 रुपए प्रति किलो की जगह 56 रुपए प्रति किलो हो गई है. प्रदेश में दूध की सप्लाई प्रभावित होने और अन्य कारणों से पिछले 14 माह में ही दूध की कीमतें आठ रुपये बढ़ी हैं. पिछले दो माह में यह दूसरी वृद्धि है.

एक साल पहले सरस गोल्ड की कीमत 56 रुपए प्रति किलो थी, सरस गोल्ड दूध में फुल क्रीम आती है. अब सरस गोल्ड आरसीडीएफ के 45 साल के इतिहास में पहली बार 64 रुपए प्रति किलो की दर पर पहुंच गया है. वहीं बिना क्रीम वाला सरस स्टैण्डर्ड दूध अब सरस गोल्ड की एक साल पहले की कीमत पर आ गया है. बिना क्रीम वाला सरस स्टैण्डर्ड दूध अब 56 रुपए प्रति किलो पहुंच गया है.

घर जंवाई की 16 साल की साली पर डोली नीयत, ससुराल से भगा ले गया और किया रेप, 4 बच्चों का पिता है

आपके शहर से (जयपुर)

राजस्थान
जयपुर

राजस्थान
जयपुर

टोंड मिल्क के बाद अब स्मार्ट ब्रांड महंगा
सरस के स्मार्ट ब्रांड दूध की कीमत 40 रुपए प्रति किलो से बढाकर 42 रुपए प्रति किलो, जबकि सरस लाइट दूध 400 ग्राम पैक की कीमत 13 रुपए से बढाकर 14 रुपए प्रति पैक कर दी गई है. सरस डेयरी ब्रांड के दूध की कीमतों में दो रुपए प्रति लीटर के हिसाब से बढोतरी की गई है. कल ही सरस ने अपने टोण्ड दूध की कीमत में दो रुपए की वृद्धि करते हुए पचास रुपए प्रति किलो करने के आदेश जारी किए थे.

एक दिन में सर्वाधिक दूध एकत्र करने का रिकॉर्ड
बजट भाषण में राज्य सरकार ने दुग्ध उत्पादकों को दो रुपए की जगह पांच रुपए प्रति किलो का अनुदान देने की घोषणा की थी. उसके बाद भी जयपुर जिला दुग्ध उत्पादक संघ द्वारा उपभोक्ताओं के लिए सरस डयरी के दुग्ध की कीमतों में 8 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से बढ़ा दी है. जबकि पिछले महीने राजस्थान डेयरी कोऑपरेटिव फैडरेशन द्वारा राजस्थान में आजादी के बाद 16 दिसंबर को 45 वर्षों के इतिहास में एक ही दिन में सर्वाधिक 43 लाख 03 हजार लीटर दूध एकत्रित करने के आंकड़े जारी कर वाह-वाही लूटी थी.

चारे के साथ ही पशु आहार की कीमतें बढ़ीं
आरसीडीएफ ने आंकड़े जारी कर बताया था की पिछले साल की तुलना में इस बार 23 फीसदी दूध कलेक्शन बढा है. मुख्यमंत्री की बजट घोषणा के बाद दुग्ध उत्पादक भी लगातार दूध की दरें बढाने की मांग कर रहे हैं. दूग्ध उत्पादक समूहों का कहना है की प्रदेश में पिछले साल की तुलना में चारे के साथ-साथ पशु आहार की कीमत में पचास फीसदी से ज्यादा की वृद्धि हुई है. ऐसे में डेयरी प्रबंधन से दूध की दरें बढाने की मांग को लेकर कई बार जिला संघों ने डेयरी प्रबंधन को ज्ञापन भी सौंपे हैं. डेयरी प्रबंधन द्वारा पशुपालकों और दुग्ध उत्पादक समूहों के लिए दरें तो नहीं बढाई, लेकिन जयपुर जिला दुग्ध उत्पादक संघ द्वारा उपभोक्ताओं के लिए दूध की कीमतों में लगातार वृद्धि की जा रही है.

Tags: Jaipur news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *