नीतिन गडकरी ने क्यों कहा कि सरकार के पास कानून तोड़ने का अधिकार, जानें क्या है मामला

हाइलाइट्स

केंद्रीय मंत्री नीतिन गडकरी ने कहा गरीब कल्याण की राह में कोई कानून बाधक नहीं बन सकता
गडकरी ने कहा अधिकारियों को हमारे हिसाब से काम करना होगा
गडकरी ने कहा ऐसे कानून को 10 बार भी तोड़ना हो तो संकोच नहीं करना चाहिए

नई दिल्ली. केंद्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नीतिन गडकरी अक्सर जनता के दिलों को छू लेने वाले बयान देते हैं. इस बार उन्होंने कहा कि कोई भी कानून गरीब कल्याण में बाधक नहीं बन सकता. यदि कोई भी कानून गरीब कल्याण की राह में बाधक बनता है तो सरकार को इसे तोड़ने या दरकिनार का पूरा अधिकार है. गडकरी ने कहा, ऐसा राष्ट्रपति महात्मा गांधी भी कहते थे. नीतिन गडकरी ने कहा, मैं जानता हूं कि गरीबों के कल्याण में कोई भी कानून आड़े नहीं आता, ऐसे कानून को 10 बार भी तोड़ना हो तो संकोच नहीं करना चाहिए क्योंकि महात्मा गांधी ने भी ऐसा ही कहा था.

गडकरी ने नागपुर में हुए एक कार्यक्रम के दौरान कहा, मैं हमेशा अधिकारियों से कहता हूं कि आप जो कहेंगे, सरकार उसके अनुसार सरकार काम नहीं करेगी. आपको केवल हां सर कहना है. आपको, हम जो कह रहे हैं, उसपर अमल करना होगा, उसे क्रियान्वित करना होगा. सरकार हमारे हिसाब से काम करेगी.

गडकरी ने 1995 की एक घटना को याद करते हुए कहा, जब महाराष्ट्र में मनोहर जोशी मुख्यमंत्री थे, तब मैं अक्सर अधिकारियों से कहा करता था कि आपके हिसाब से सरकार नहीं चलेगी, सरकार हमारे हिसाब से चलेगी और हम जो कहेंगे उसका पालन करना होगा. गडकरी ने कहा, 1995 में मेलघाट और गढ़चिरौली में कुपोषण के कारण हजारों बच्चे मारे गए. गांवों तक सड़कें नहीं थीं क्योंकि वहां वन्य कानून के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा था.

Tags: Nitin gadkari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *