फिल्म में नकली आभूषण पहनने से कर दिया था इनकार, बीच में ही रोक दी शूटिंग, जिद्दी एक्टर की दिलचस्प कहानी

मुंबई: हिंदी सिनेमा के दिग्गज एक्टर राज कुमार (Raaj Kumar) अपने नाम के मुताबिक खुद को किसी प्रिंस से कम नहीं समझते थे. राज कुमार की ठसक, जिद, अड़ियल, गुस्सैल रवैये की तमाम कहानियां सुनने और पढ़ने को मिलती हैं. हालांकि राज कुमार कमाल के एक्टर थे लेकिन कई बार उनकी सनक कई बार फिल्ममेकर्स और डायरेक्टर को रुला देती थी. कुछ ऐसा ही किस्सा फिल्म  ‘नीलकमल’ (Neel Kamal) का भी है. वहीदा रहमान (Waheeda Rehman), मनोज कुमार (Manoj Kumar) और बलराज साहनी स्टारर इस फिल्म में राज कुमार ने एक मूर्तिकार का रोल निभाया था. फिल्म की शूटिंग शुरू हो गई थी, एक सीन की शूटिंग के दौरान अपने लिए आर्टिफिशियल गहने देख राज कुमार भड़क गए थे.

दरअसल, पूर्व  ‘नीलकमल’ फिल्म में जहां राज कुमार  मूर्तिकार के रोल में थे तो वहीं  वहीदा रहमान डबल रोल में थीं. वहीदा ने दोनों जन्मों का किरदार निभाया था. फिल्म में राज कुमार को कुछ सीन में आभूषण पहनने थे. बेहद जिद्दी और अपनी शर्तों पर फिल्में करने के लिए मशहूर राज कुमार को उस समय गुस्सा आ गया जब उन्होंने देखा कि उनके पहनने के लिए  मंहवाई गई ज्वैलरी नकली हैं. राज कुमार ने फिल्म मेकर्स से कहा कि पहनूंगा तो असली ज्वैलरी नहीं तो शूटिंग ही नहीं करूंगा’.

राज कुमार की जिद ने करवाया फिल्ममेकर्स का नुकसान
राज कुमार को काफी समझाया बुझाया गया लेकिन वह अपनी जिद पर अड़े रहे. उनकी जिद  के आगे  प्रोड्यूसर और डायरेक्टर नतमस्तक हो गए. फिल्म निर्माता पन्ना लाल ने किसी तरह असली का इंतजाम किया. असली गहने आने में काफी समय लग गया, तब तक फिल्म की शूटिंग रूकी रही और फिल्ममेकर्स का नुकसान होता रहा. उस दौर में हर चीज इतनी आसानी से मिलती नहीं थी. खैर किसी तरह असली जेवर मंगवाए गए और राज कुमार ने पूरे ठसक के साथ पहना और शॉट दिया. इस तरह फिल्म की शूटिंग आगे बढ़ी.

ये भी पढ़िए-हर बेटी की विदाई में बजता है ये गाना, छलक पड़ती हैं आंखे, दर्द में डूबे सिंगर ने रो-रो कर की थी रिकॉर्डिंग !

‘नीलकमल’ ने खूब कमाई भी की थी
‘नीलकमल’ फिल्म 1968 की सबसे फिल्म मानी जाती है. राम माहेश्वरी के निर्देशन में बनी फिल्म नींद में चलने वाली लड़की की कहानी पर है, जिसका संबंध उसके पूर्व जन्म से जुड़ा हुआ है. इस फिल्म के गानें ‘बाबुल की दुआएं लेती जा’ आज भी किसी लड़की की शादी के बाद विदाई पर रुला देता है. इस गाने को रिकॉर्ड करते समय मोहम्मद रफी भी रो पड़े थे.  इसके अलावा ‘आजा तुझको पुकारे मेरा प्यार’, ‘मेरे रोम-रोम में बसने वाले राम’ भी सदाबहार गानों में से एक है.

Tags: Entertainment Special, Manoj kumar, Waheeda rehman

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *