मंगलुरु ऑटो रिक्शा विस्फोट: गैंग नहीं था, अपने दम पर हमले की तैयारी में था शारिक-सूत्र

मंगलुरु. मंगलुरु के ऑटो रिक्शा विस्फोट को लेकर पुलिस इसकी जांच में जुटी है. खुफिया सूत्रों से CNN-News18 को मिल रही जानकारी के अनुसार शारिक शायद अपने दम पर कई जगहों पर हमला करना चाहता था. सूत्रों ने कहा, “शारिक किसी के संपर्क में नहीं था और उसका कोई गिरोह नहीं था. उसके साथियों की थ्योरी गलत साबित हुई है. वह एक आत्मघाती हमलावर नहीं था.” अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आलोक कुमार ने कहा कि शारिक ग्लोबल आतंकवादी संगठन से “प्रभावित और प्रेरित” था.

शीर्ष खुफिया सूत्रों ने बताया कि 24 वर्षीय मोहम्मद शारिक, मंगलुरु में शनिवार के ऑटो रिक्शा विस्फोट में मुख्य संदिग्ध है. आरोपी 45 फीसदी झुलस गया है. खुफिया सूत्रों ने कहा कि शारिक ने योजना के बारे में किसी से बात नहीं की और कहा कि सभी सामान की व्यवस्था और खरीद उसके द्वारा ही की गई थी. उन्होंने कहा कि आरोपी के फोन रिकॉर्ड की जांच की जा रही है और वे पिछले एक महीने में उसके संबंधों को समझने की कोशिश कर रहे हैं.

घर से मिला बम बनाने का सामान
पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया कि पुलिस को उस घर से बम बनाने की सामग्री मिली. शारिक उस मकान में किराएदार के रूप में रह रहा था. अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आलोक कुमार ने कहा कि शारिक ग्लोबल आतंकवादी संगठन से “प्रभावित और प्रेरित” था.

पुलिस ने विस्फोट को “गंभीर नुकसान पहुंचाने के इरादे से आतंक का एक कृत्य” करार दिया था. उनका नाम पहले तब सामने आया था जब 15 अगस्त को जिला मुख्यालय शहर शिवमोग्गा में एक सार्वजनिक स्थान पर हिंदुत्ववादी विचारक विनायक दामोदर सावरकर की तस्वीर लगाने को लेकर सांप्रदायिक झड़प हुई थी.

Tags: Karnataka News, Karnataka police, Mangaluru news

Share
Facebook Twitter Pinterest Linkedin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *