मेहुल चोकसी को डोमिनिका में जेल भेजने का आदेश, अस्पताल में इलाज चलता रहेगा: वकील

नई दिल्ली: डोमिनिका की एक अदालत ने कारोबारी मेहुल चोकसी को गुरुवार को जेल भेजने का आदेश दिया, लेकिन फिलहाल अस्पताल में उसका इलाज चलता रहेगा क्योंकि उसकी तबीयत बिगड़ी हुई है। भारत में चोकसी के वकील ने यह जानकारी दी. इससे पहले हीरा कारोबारी चोकसी पुलिस हिरासत में था.

मेहुल चोकसी की तबियत बिगड़ी

वकील विजय अग्रवाल ने कहा, ‘पुलिस हिरासत को जेल हिरासत में बदल दिया गया है, लेकिन वह अस्पताल में ही रहेंगे क्योंकि उनकी चिकित्सीय स्थिति बिगड़ी हुई है.’इस घटनाक्रम को भारत के लिए आशा की किरण के रूप में देखा जा रहा है जिसने डोमिनिका उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाकर चोकसी के वकीलों द्वारा दायर मामले में एक पक्ष बनाने की अपील की है. 

प्रत्यर्पण पर डोमिनिका की सरकार से बात जारी: विदेश मंत्रालय

विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के जल्द प्रत्यर्पण अथवा उसे सौंपे जाने को लेकर डोमिनिका की सरकार से सक्रिय संवाद बनाये हुए हैं ताकि उसे अपने देश में न्याय के कटघरे में खड़ा किया जा सके.

कानूनी प्रक्रिया जारी

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में संवाददाताओं से कहा, ‘मेहुल चोकसी अभी डोमिनिका में हिरासत में है और वहां उसके खिलाफ कानूनी प्रक्रिया चल रही है.’ उन्होंने कहा कि सरकार चोकसी के जल्द प्रत्यर्पण अथवा उसे सौंपे जाने को लेकर डोमिनिका की सरकार से सक्रिय संवाद बनाये हुए हैं ताकि उसे अपने देश में न्याय के कटघरे में खड़ा किया जा सके.

25 जून तक के लिए सुनवाई स्थगित

बागची ने कहा कि डोमिनिका की सरकार को मेहुल चोकसी के भारत में आपराधिक आरोपों से जुड़े मामलों एवं भारतीय नागरिकता से जुड़े विषयों के बारे में बताया गया है. डोमिनिका की मजिस्ट्रेट अदालत ने चोकसी के कैरिबियाई द्वीपीय देश में कथित अवैध तरीके से प्रवेश करने के मामले की सुनवाई 25 जून तक के लिये स्थगित कर दी है.

24 मई को डोमिनिका में गिरफ्तार

गौरतलब है कि मेहुल चोकसी के खिलाफ भारत में धोखाधड़ी का मामला चल रहा है. भगोड़े हीरा कारोबारी चोकसी के खिलाफ डोमिनिका की अदालत में कानूनी कार्यवाही चल रही है. चोकसी को एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमयी तरीके से गायब होने के बाद 24 मई को डोमिनिका में अवैध प्रवेश के मामले में गिरफ्तार किया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *