रिसर्च: अगर दोनों बाहों से नापे गए ब्लड प्रेशर की रीडिंग अलग है तो आपकी जान को हो सकता है खतरा

रिसर्च: अगर दोनों बाहों से नापे गए ब्लड प्रेशर की रीडिंग अलग है तो आपकी जान को हो सकता है खतरा

Wellness

oi-Seema Rawat

| Published: Friday, July 9, 2021, 17:42 [IST]

आमतौर
पर
डॉक्टर्स
एक
ही
बांह
से
ब्लड
प्रेशर
को
नापते
हैं,
लेकिन
क्या
हो
अगर
दोनों
बाहों
से
ब्लड
प्रेशर
नापा
जाए
और
दोनों
बार
परिणाम
अलग
हों।
यूनिवर्सिटी
ऑफ
एक्स्टर
के
नेतृत्व
में

ग्लोबल
इंटरप्रेस-आईपीडी
कोलैबोरेशन
की
ओर
से
किए
गए
एक
शोध
में
पाया
गया
है
कि
दोनों
बाहों
से
नापे
गए
ब्लड
प्रेशर
के
परिणाम
में
जितना
ज्यादा
अंतर
होगा,
पेशेंट
को
उतना
ही
बड़ा
हेल्थ
रिस्क
होगा।
यह
शोध
24
ग्लोबल
स्टडीज
को
मर्ज
करके
करीब
59000
लोगों
के
मौजूद
डेटाबेस
पर
आधारित
है।
इसमें
यूरोप,
यूएस,
एशिया
और
अफ्रीका
के
वयस्कों
की
दोनों
बाहों
से
ली
गई
ब्लड
प्रेशर
की
रीडिंग
को
शामिल
किया
गया
है।

मौजूदा
दौर
में
इंटरनेशनल
ब्लड
प्रेशर
गाइडलाइंस
में
सलाह
दी
गई
है
कि
हृदय
रोग
रिस्क
की
जांच
करने
के
लिए
दोनों
बाहों
से
ब्लड
प्रेशर
की
रीडिंग
ली
जानी
चाहिए,
लेकिन
इसे
नजरअंदाज
किया
जाता
है।

Difference in Blood Pressure Between a Persons Arms Linked to a Higher Risk of Death

यूनिवर्सिटी
ऑफ
एक्स्टर
मेडिकल
कॉलेज
के
लीड
ऑथर

जीपी
डॉ.
क्रिस
क्लार्क
के
अनुसार, “रुटीन
में
इस्तेमाल
होने
वाले
ब्लड
प्रेशर
मॉनिटर
से
पहले
एक
बाहं
फिर
दूसरी
चेक
करना
आसान
भी
है
और
सस्ता
भी
और
बिना
किसी
अतिरिक्त
या
महंगे
इक्विपमेंट
के
ऐसा
किसी
भी
हैल्थकेयर
सेंटर
पर
किया
जा
सकता
है।
हालांकि
इंटरनेशनल
गाइडलाइंस
में
भी
ऐसा
करने
को
कहा
गया
है,
लेकिन
इस
गाइडलाइन
का
पालन
कुछ
एक
जगहों
पर
ही
हो
पाता
है।
आमतौर
पर
वक्त
की
कमी
के
चलते
इसकी
अनदेखी
की
जाती
है।
हमारे
शोध
में
यह
बात
सामने
आई
है
कि
दोनों
बाहों
से
रीडिंग
लेने
में
लगाया
जाने
वाला
यह
जरा
सा
अतिरिक्त
समय
जिंदगियां
बचा
सकता
है।”

उन्होंने
आगे
कहा, “हम
यह
बात
लंबे
समय
से
जानते
हैं
कि
दोनों
बाहों
से
ली
गई
ब्लड
प्रेशर
की
रीडिंग
में
आने
वाला
अंतर
खराब
सेहत
का
संकेत
है।
इंटरप्रेस-आईपीडी
स्टडी
में
ज्यादा
लोगों
पर
किए
गए
इस
शोध
में
और
भी
डीटेल्स
हमारे
सामने
आईं।
इससे
हमें
पता
चला
कि
दोनों
बाहों
से
ली
गई
रीडिंग
में
जितना
ज्यादा
अंतर
होगा
उतना
ही
ज्यादा
हृदय
रोग
का
खतरा
पेशेंट
को
होगा।
इसलिए
दोनों
बाहों
से
ब्लड
प्रेशर
की
रीडिंग
लेना
बेहद
जरूरी
है
ताकि
समय
पर
पता
चल
सके
कि
किस
मरीज
को
ज्यादा
खतरा
है।
जिन
भी
मरीजों
की
ब्लड
प्रेशर
की
जांच
होती
है
उन्हें
यह
सुनिश्चित
करना
चाहिए
कि
कम
से
कम
एक
बार
तो
उनकी
दोनों
बाहों
से
बीपी
की
रीडिंग
ली
जाए।”

ऐसे
समझें
ब्लड
प्रेशर
का
सेहत
पर
असर

दरअसल
ब्लड
प्रेशर
हर
पल्स
के
साथ
बढ़ता
और
घटता
है।
इसे
मरकरी
के
मिलिमीटर्स
(mmHg)
में
नापा
जाता
है
और
रीडिंग
हमेशा
दो
अंको
में
दी
जाती
है:
अपर
यानी
कि
सिस्टोलिक
रीडिंग
में
अधिकतम
ब्लड
प्रेशर
और
लोअर
यानी
कि
डायस्टोलिक
में
न्यूनतम
ब्लड
प्रेशर
बताया
जाता
है।
हाई
सिस्टोलिक
का
अर्थ
है
हाइपरटेंशन।
एक
तिहाई
आबादी
इसी
से
ग्रसित
है
जिससे
हार्ट
अटैक,
स्ट्रोक्स
और
मौत
तक
हो
सकती
है।
दो
बाहों
से
ली
गई
रीडिंग
में
अगर
सिस्टोलिक
में
ज्यादा
अंतर
आता
है
तो
यह
आर्टरीज
के
सिकुड़ने
या
सख्त
होने
की
ओर
एक
संकेत
हो
सकता
है
जिससे
खून
का
दौरा
प्रभावित
होता
है।
यह
हार्ट
अटैक,
स्ट्रोक
का
खतरा
बताती
है।
अगर
ऐसा
हो
तो
इसका
तुरंत
इलाज
होना
जरूरी
है।

वर्तमान
में
यूके
और
यूरोपियन
दोनों
ही
गाइडलाइंस
में
दोनों
बाहों
से
ली
गई
रीडिंग
में
सिस्टोलिक
डिफ्रेंस
अगर
15
mmHg
या
इससे
अधिक
हो
तो
इसे
खतरे
की
घंटी
माना
गया
है।
हालांकि
नए
शोध
में
10
mmHg
या
इससे
अधिक
को
भी
हृदय
रोग
का
खतरा
माना
गया
है।

फ्रांस
के
लिमोजिस
में
दुपुएत्रिन
यूनिवर्सिटी
हॉस्पिटल
के
कार्डियोलॉजी
डिपार्टमेंट
के
हैड

रिचर्स
के
को
ऑथर
प्रोफेसर
विक्टर
अबोयंस
ने
बताया, “हम
मानते
हैं
कि
10
mmHg
या
इससे
ज्यादा
का
फर्क
भी
खतरे
का
संकेत
है।
इसे
भविष्य
में
गाइडलाइंस
में
शामिल
किया
जाना
चाहिए
और
हृदय
रोगों
का
पता
करने
के
लिए
क्लिनिकली
इसका
पालन
होना
चाहिए।
इससे
ज्यादा
से
ज्यादा
लोगों
को
समय
पर
​इलाज
मिल
सकेगा
और
उनकी
जान
बचाई
जा
सकेगी।”

  • चातुमार्स डाइट : हिंदू कैलेंडर के इन 4 पवित्र माह में वर्जित है प्‍याज, लहुसन और मांस का सेवन, जानें क्‍यों?

    चातुमार्स
    डाइट
    :
    हिंदू
    कैलेंडर
    के
    इन
    4
    पवित्र
    माह
    में
    वर्जित
    है
    प्‍याज,
    लहुसन
    और
    मांस
    का
    सेवन,
    जानें
    क्‍यों?
  • दोपहर और डिनर के बाद शिल्‍पा शेट्टी पीती हैं ये CCF चाय, जानें इस सुपर हेल्‍दी चाय बनने का तरीका और फायदे

    दोपहर
    और
    डिनर
    के
    बाद
    शिल्‍पा
    शेट्टी
    पीती
    हैं
    ये
    CCF
    चाय,
    जानें
    इस
    सुपर
    हेल्‍दी
    चाय
    बनने
    का
    तरीका
    और
    फायदे
  • जामुन खाने के बाद इन तीन चीजों को खाने से हो सकता है सेहत को भारी भरकम नुकसान, जानें क्‍या खाने से बचें

    जामुन
    खाने
    के
    बाद
    इन
    तीन
    चीजों
    को
    खाने
    से
    हो
    सकता
    है
    सेहत
    को
    भारी
    भरकम
    नुकसान,
    जानें
    क्‍या
    खाने
    से
    बचें
  • आयुष मंत्रालय ने गिलोय को लीवर को डैमेज करने वाले दावे का क‍िया खंडन, बताई इससे जुड़ी सच्‍चाई

    आयुष
    मंत्रालय
    ने
    गिलोय
    को
    लीवर
    को
    डैमेज
    करने
    वाले
    दावे
    का
    क‍िया
    खंडन,
    बताई
    इससे
    जुड़ी
    सच्‍चाई
  • दिलीप कुमार को था एडवांस्ड प्रोस्टेट कैंसर, जानें इस बीमारी के बारे में सबकुछ

    दिलीप
    कुमार
    को
    था
    एडवांस्ड
    प्रोस्टेट
    कैंसर,
    जानें
    इस
    बीमारी
    के
    बारे
    में
    सबकुछ
  • अनलॉक की ढ‍िलाई ने बढ़ाया कोविड की तीसरी लहर का खतरा, जानिए क्या कहता है रिसर्च

    अनलॉक
    की
    ढ‍िलाई
    ने
    बढ़ाया
    कोविड
    की
    तीसरी
    लहर
    का
    खतरा,
    जानिए
    क्या
    कहता
    है
    रिसर्च
  • ओट्स खाएं या मूसली, जाने वेटलॉस के ल‍िए कौनसा ऑप्‍शन है ज्‍यादा बेहतर

    ओट्स
    खाएं
    या
    मूसली,
    जाने
    वेटलॉस
    के
    ल‍िए
    कौनसा
    ऑप्‍शन
    है
    ज्‍यादा
    बेहतर
  • वेटलॉस से लेकर स्किन को ग्‍लोइंग बनाता है आलूबुखारा का जूस, गुणों का पिटारा है ये फल

    वेटलॉस
    से
    लेकर
    स्किन
    को
    ग्‍लोइंग
    बनाता
    है
    आलूबुखारा
    का
    जूस,
    गुणों
    का
    पिटारा
    है
    ये
    फल
  • Delta variant: इन लोगों को है 'डेल्टा वैरिएंट' से ज्‍यादा खतरा, इससे बचने के लिए करें ये काम

    Delta
    variant:
    इन
    लोगों
    को
    है ‘डेल्टा
    वैरिएंट’
    से
    ज्‍यादा
    खतरा,
    इससे
    बचने
    के
    लिए
    करें
    ये
    काम
  • मानसून में बढ़ जाती है सीजनल बीमारियां, संक्रमण से बचने के ल‍िए करें ये काम

    मानसून
    में
    बढ़
    जाती
    है
    सीजनल
    बीमारियां,
    संक्रमण
    से
    बचने
    के
    ल‍िए
    करें
    ये
    काम
  • वैक्सीन लगवाने के बाद भूल से भी न करें ये 5 गलतियां, बढ़ जाता है दोबारा इंफेक्शन का खतरा

    वैक्सीन
    लगवाने
    के
    बाद
    भूल
    से
    भी

    करें
    ये
    5
    गलतियां,
    बढ़
    जाता
    है
    दोबारा
    इंफेक्शन
    का
    खतरा
  • भाग्यश्री खाती हैं कच्ची भिंडी, डायबिटीज पेशेंट के लिए है अमृत और पेट के रोग को करें दूर

    भाग्यश्री
    खाती
    हैं
    कच्ची
    भिंडी,
    डायबिटीज
    पेशेंट
    के
    लिए
    है
    अमृत
    और
    पेट
    के
    रोग
    को
    करें
    दूर

GET THE BEST BOLDSKY STORIES!

Allow Notifications

You have already subscribed

English summary

Difference in Blood Pressure Between a Person’s Arms Linked to a Higher Risk of Death

The difference in blood pressure between a person’s arms is linked to a greater risk of heart attack, stroke, and death. Know more.

Story first published: Friday, July 9, 2021, 17:42 [IST]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *