रूस-यूक्रेन युद्ध पर PM मोदी की सलाह से पश्चिम अब भारत की भूमिका को स्पष्ट रूप से समझ रहा है: विशेषज्ञ

हाइलाइट्स

एससीओ समिट में पीएम मोदी की सलाह का दुनियाभर के राजनेताओं ने स्वागत किया है.
यूएन महासभा की बैठक में फ्रांस के राषट्रपति ने पीएम मोदी का समर्थन किया.
विशेषज्ञों का मानना है कि रूस-यूक्रेन युद्ध पर भारत की टिप्पणी से पश्चिमी देश प्रभावित हुए हैं.

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को दिए गए संदेश को लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका और फ्रांस की टिप्पणियों को भारतीय विशेषज्ञों ने महत्वपूर्ण बताया है. भारतीय विशेषज्ञों ने इस तथ्य पर जोर दिया कि आज दुनिया में भारत की आवाज कितनी महत्वपूर्ण हो गई है, जिससे पश्चिम को भारत की भूमिका की स्पष्ट समझ मिल गई है. ओआरएफ के विशिष्ट फेलो हर्ष वी पंत ने कहा, “यह भारत की एक लंबे समय से चली आ रही नीति रही है और जिसे पीएम मोदी ने दोहराया है. वह पुतिन से कहते रहे हैं कि रूस को इस समस्या को हल करने का एक और तरीका खोजना चाहिए. बेशक, यह यूक्रेन पर भी लागू होता है.

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारत लगातार राजनीतिक वकालत करता रहा है. मुझे लगता है कि पीएम मोदी की टिप्पणी को दुनिया भर में अच्छी तरह से समझा गया है, जैसा कि आपने सुना है कि पुतिन ने खुद कहा है कि वह भारत की चिंताओं को समझते हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा, “अब जो हो रहा है वह शायद कुछ मायनों में पश्चिम भी समझ रहा है, जो लंबे समय से सोच रहा था कि भारत रूस को नहीं बता रहा है कि रूस को क्या करना चाहिए. शायद अब वे स्पष्ट रूप से समझते हैं. भारत ने सार्वजनिक और निजी तौर पर रूस को बताया कि युद्ध इन समस्याओं का समाधान नहीं है.

भारत ने हमेशा शांतिपूर्ण बातचीत की वकालत की है
एक अन्य विशेषज्ञ ने आज भारत को दुनिया में एक महत्वपूर्ण आवाज बताते हुए कहा कि भारत ने हमेशा शांतिपूर्ण वार्ता की वकालत की है. भारत के पूर्व उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पंकज सरन ने कहा, “पीएम मोदी द्वारा दी गई सलाह को दुनियाभर के राजनेताओं की टिप्पणी यह दर्शाती है कि आज दुनिया में भारत की आवाज कितनी महत्वपूर्ण हो गई है. साथ ही यह भी स्पष्ट है कि पीएम मोदी के विचारों का सम्मान है. भारत ने हमेशा शांतिपूर्ण बातचीत, कूटनीति और सुलह की वकालत की है. यह रूस के साथ भारत की दोस्ती के मूल्य को भी दर्शाता है. भारत पश्चिम और रूस के बीच पुल बनाने में मदद करने के लिए अच्छी तरह से तैयार है. “

फ्रांस के राष्ट्रपति ने पीएम मोदी की सलाह को सही ठहराया
बता दें कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने मंगलवार (स्थानीय समयानुसार) ने यूक्रेन पर पुतिन के लिए पीएम मोदी के बयान का स्वागत किया. बीते 16 सितंबर को समरकंद में एससीओ शिखर सम्मेलन के मौके पर, पीएम मोदी ने भोजन, ईंधन सुरक्षा और उर्वरकों की समस्याओं को दूर करने के तरीके खोजने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा, “आज का युग युद्ध का नहीं है”.

[embedded content]

पीएम मोदी द्वारा दी गई सलाह से पश्चिमी देश भी प्रभावित हुए
गेटवे हाउस के पूर्व राजदूत और प्रतिष्ठित साथी राजीव भाटिया ने कहा, “राष्ट्रपति पुतिन के साथ अपनी बैठक में पीएम मोदी द्वारा की गई टिप्पणी निस्संदेह बहुत महत्वपूर्ण थी. इन टिप्पणियों का असर कम से कम तीन क्षेत्रों में हुआ है. पहला निश्चित रूप से रूसी राष्ट्रपति थे और उन्होंने इसे बहुत अच्छी तरह से लिया है, जिसका अर्थ है कि यह है यह सच है कि भारत काफी समय से मास्को को बता रहा है कि इस युद्ध के शांतिपूर्ण समाधान की आवश्यकता है. इसके अलावा पीएम मोदी की इस बात से भारत के लोग भी प्रभावित हुए हैं और मुझे लगता है कि देश भर में सभी ने रूसी राष्ट्रपति को यह महत्वपूर्ण संदेश देने के लिए पीएम मोदी की दूरदर्शिता और साहस की सराहना की है. इसके बाद पश्चिमी देश भी इस बयान से प्रभावित हुए हैं. पश्चिमी सरकारों का पूरा समूह अनिवार्य रूप से यूक्रेन की ओर से युद्ध को बनाए रखने में यूक्रेन की मदद कर रहा है.

Tags: PM Modi, Russia ukraine war

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *