वीनेश फोगाट-साक्षी मलिक की आंखों में आंसू देश के लिए शर्म की बात, जरूरत पड़ी तो धरने पर बैठूंगी: स्‍वाति मालीवाल

हाइलाइट्स

ओलंपिक पहलवान साक्षी मलिक, बजरंग पूनिया और वीनेश फोगाट जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे हैं.
ये पहलवान यौन शोषण के आरोपी भारतीय कुश्‍ती महासंघ के अध्‍यक्ष को हटाने की मांग कर रहे हैं.

नई दिल्‍ली. जंतर-मंतर पर धरने पर बैठी कॉमनवेल्‍थ और एशियन गेम्‍स गोल्‍ड मेडलिस्‍ट विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक (Sakshi Malik), बजरंग पूनिया और  से आज दिल्‍ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष स्‍वाति मालीवाल (Swati Maliwal) ने भी मुलाकात की है. साथ ही महिला पहलवानों के यौन शोषण के आरोपों की जांच के लिए यूनियन खेल मंत्रालय (Union Sports Ministry) और दिल्‍ली पुलिस को नोटिस भी जारी किया है. खिलाड़ि‍यों से मिलने पहुंची स्‍वाति ने कहा कि देश के लिए बड़ी शर्म की बात है कि भारत का नाम विश्‍व में रौशन करने वाले ओलंपिक खिलाड़ियों की आंखों में आज आंसू हैं और उन्‍हें धरने पर बैठना पड़ रहा है.

खिलाड़‍ियों से मिलीं स्‍वाति ने कहा कि कुछ तो हुआ ही होगा कि देश का नाम रौशन करने वाले ओलंपियन रेसलर (Olympian Wrestler) साक्षी मलिक, विनेश फोगाट और बजरंग पूनिया आज भरी ठंड में धरना देने पर मजबूर हैं. उनका कहना है कि रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (Wrestling Federation of India) प्रेसिडेंट और कोच खिलाड़ियों का यौन शोषण करते हैं. इसलिए मामले की जांच के लिए दिल्‍ली महिला आयोग ने स्पोर्ट्स मिनिस्ट्री और पुलिस को नोटिस जारी कर दिया है.

स्‍वाति ने कहा, ‘जंतर मंतर जाकर देश की चैंपियन रेसलर्स से मिली. उन्होंने हमारे तिरंगे की शान बढ़ाई है. बड़े दुख की बात है कि उन्हें आज इस कड़ाके की सर्दी में सड़क पर बैठना पड़ रहा है. हम मजबूती से उनके साथ खड़े हैं और उन्हें न्याय दिलाएंगे.’

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

स्‍वाति ने विनेश फोगाट से कहा कि खिलाड़‍ियों ने बहुत हिम्‍मत की है, यह बहुत मुश्किल है. दिल्‍ली महिला आयोग उनके साथ है. अगर धरने में साथ बैठने की जरूरत पड़ती है तो वे बैठेंगी. दिन हो या रात हो, जहां तक जरूरत पड़ेगी वे इस लड़ाई को लड़ने में साथ रहेंगी.

बता दें कि ओलंपिक में मेडल जीतने वाली साक्षी मलिक, विश्व चैंपियनशिप मेडल विजेता विनेश फोगाट और टोक्‍यो ओलंपिक में ब्रांज मेडल जीतने वाले बजरंग पूनिया जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे हैं. महिला पहलवानों के साथ यौन शोषण के मामले पर भारतीय कुश्‍ती महासंघ के अध्‍यक्ष बृजभूषण शरण और कोच को हटाने की मांग की जा रही है. फोगाट का कहना है कि उन्हें डब्ल्यूएफआई (भारतीय कुश्ती महासंघ) के अधिकारियों से जान से मारने की धमकी भी मिली है.

Tags: Sakshi Malik, Swati Maliwal, Vinesh phogat, Vinesh phogat ban

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *