वैक्सीन की डोज ले चुके लोग कोरोना से 95% तक सुरक्षित, अपोलो की स्टडी का दावा

नई दिल्ली: कोरोना की वैक्सीन ले चुके लोगों के लिए राहत भरी खबर आई है. हाल ही में हुई एक स्टडी में पता चला है कि कोरोना वैक्सीन 95 प्रतिशत तक सुरक्षा प्रदान कर रही है. ये स्टडी अपोलो हॉस्पीटल की तरफ से की गई है. स्टडी में पता चला है कि अगर किसी ने कोरोना वैक्सीन की एक भी डोज ली है तो उसे कोरोना होने का खतरा 5 प्रतिशत से भी कम है. 

स्टडी में कहा गया है कि अगर आपको कोविड-19 वैक्सीन की दोनों या फिर केवल एक डोज भी लग चुकी है तो संक्रमण होने का खतरा पांच प्रतिशत से भी कम है. 

स्टडी को ऐसे समझें

भारत के 24 शहरों में अपोलो के 43 यूनिट्स के 31 हजार 621 हेल्थकेयर वर्कर्स पर ये स्टडी की गई. वैक्सीन के बाद 4.28 प्रतिशत लोगों को ही कोरोना का संक्रमण हुआ. हालांकि किसी में भी स्थिति गंभीर नहीं हुई. ये स्टडी 16 जनवरी से 30 मई तक के डेटा के आधार पर की गई है. स्टडी में शामिल हेल्थ वर्कर्स को कोवैक्सीन या कोवीशील्ड की एक या दोनों डोज लग चुकी थीं. 

ये भी पढ़ें- कोरोनासोमनिया बीमारी का नाम सुना है? वायरस के प्रकोप से बचने के बाद घेर रही

स्टडी में शामिल 31621 लोगों में से 1355 यानी केवल 4.28 प्रतिशत को कोरोना का संक्रमण हुआ. उनमें से भी केवल 90 लोगों को अस्पताल जाने की जरूरत पड़ी यानी केवल 0.28 प्रतिशत इनमें 48 पुरुष और 42 महिलाएं थी. बाकी लोग घर पर ही ठीक हुए. 83 लोगों की उम्र 50 वर्ष से कम थी.

कोरोना से सुरक्षा देता है टीका

इनमें केवल तीन लोग ऐसे थे जिन्हें ICU की जरूरत पड़ी. इन तीन में से दो लोगों को दोनों डोज लग चुकी थी. तीनों की उम्र 25-39 वर्ष के बीच थी. वैक्सीन की डोज ले चुके किसी भी शख्स की कोरोना से मौत नहीं हुई.

ये भी पढ़ें- चिड़ियाघर में कोरोना का कहर, शेरनी के बाद अब शेर की भी मौत  

31621 में से 28918 यानी 91 प्रतिशत लोगों को कोवीशील्ड की डोज लगी थी जबकि 2703 यानी 8 प्रतिशत को कोवैक्सीन लगी थी. इनमें से 80 प्रतिशत से ज्यादा 25907 लोगों को दोनो डोज लग चुकी थी. जबकि 5714 यानी 18 प्रतिशत ऐसे थे जिन्हें एक डोज लगी थी. 

दूसरी लहर के दौरान हुई स्टडी

जिन लोगों को वैक्सीन के बाद कोरोना इंफेक्शन हुआ उनमें 1061 यानी 4.09 प्रतिशत को दोनों डोज लगी थी. जबकि 294 यानी एक डोज लगे कुल लोगों में से केवल 5.14 प्रतिशत को कोरोना संक्रमण हुआ. कोवीशील्ड की डोज लेने वाले 4.32 प्रतिशत को कोरोना हुआ जबकि कोवैक्सीन की डोज लेने वाले 3.85 प्रतिशत लोगों को कोरोना हुआ. सबसे खास बात ये है कि ये स्टडी दूसरी लहर के दौरान हुई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *