सर्दी बढ़ते ही दिल के मामले बढ़े, दिल संबंधी इस दवा की कीमत घटी

नई दिल्‍ली. सर्दी बढ़ते ही दिल संबंधी मरीजों की संख्‍या बढ़ने लगी है. चिकित्‍सक मरीजों को तरह तरह की सावधानी बरतने और नियमित रूप से दवा खाने की सलाह दे रहे हैं. एक अनुमान के मुताकिब देश में 80 लाख से 1 करोड़ 20 लाख लोग दिल संबंधी बीमारी से पीडि़त हैं. मरीजों का ध्‍यान रखते हुए ने कंपनी ने मरीजों तक किफायती दाम पर पहुंचाने के लिए दिल की दवा की कीमत कम करने का फैसला लिया है.

सर्दी में तापमान नीचे गिरते ही दिल के मरीजों में हार्ट फेल्योर का डर बना रहता है. हार्ट फेल्योर एक क्रॉनिक कंडीशन (दीर्घकालिक स्थिति) है, जिसमें हृदय रक्त को उस तरह से पंप नहीं करता है, जैसा उसे करना चाहिए. यह एक प्रोग्रेसिव क्रॉनिक सिंड्रोम है जिससे शरीर की कार्यप्रणाली गड़बड़ा जाती है और जीवन की गुणवत्ता प्रभावित होती है. तरल पदार्थ के निर्माण से सांस की तकलीफ और पैरों व पंजों में सूजन हो सकती है.

अधिक से अधिक मरीजों तक दवा पहुंचाने के लिए जेबी केमिकल्स एंड फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड (जेबी फार्मा) ने क्रिटिकल हार्ट फेल्योर दवा अजमर्दा की कीमत में लगभग 50 प्रतिशत कमी की है. इसके साथ लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए जेबी फार्मा अगले 6 महीनों में देश भर में 300 से अधिक हार्ट फेल्योर क्लीनिक स्थापित करेगा, ताकि लोग समय पर निदान करा सके. जेबी फार्मा डोमेस्टिक बिजनेस प्रेसीडेंट दिलीप सिंह राठौर के अनुसार दिल के अधिकतर मरीजों को अपनी इस स्थिति का पता ही नहीं होता और उन्हें इसके बारे में अंतिम चरण में पता चलता है.

Tags: Medicine

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *