ABG Group Bank Fraud Case: CBI ने पूर्व सीएमडी ऋषि अग्रवाल को किया अरेस्ट, 23 हजार करोड़ का मामला

हाइलाइट्स

एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड के पूर्व सीएमडी ऋषि अग्रवाल को CBI ने गिरफ्तार किया है.
22,842 करोड़ रुपए का बैंक धोखाधड़ी मामला.
28 बैंकों से धोखाधड़ी का आरोप.

नई दिल्ली. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बुधवार को एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड के पूर्व अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) ऋषि कमलेश अग्रवाल को 22,842 करोड़ रुपए के बैंक धोखाधड़ी मामले की जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया है. ऋषि अग्रवाल को भारतीय दंड संहिता (IPC) के साथ-साथ मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून की अलग-अलग धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है. ऋषि अग्रवाल पर आपराधिक साजिश रचने, धोखाधड़ी करने, अपने पद का दुरुपयोग करने और भरोसा तोड़ने जैसे आरोप हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड साल 2001 से भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के साथ लेनदेन कर रही है. वहीं आईसीआईसीआई बैंक की लीडरशिप में 28 बैंकों के एक समूह ने 2005 से 2012 के बीच सबसे ज्यादा पैसा उनकी कंपनी को दिया है. इसमें एसबीआई भी शामिल है.

फरवरी में धोखाधड़ी का मामला हुआ था दर्ज
गौरतलब है कि अप्रैल 2019 से मार्च 2020 के बीच कंसोर्टियम के अधिकतर बैंकों ने एबीजी शिपयार्ड के खाते को धोखाधड़ी वाला खाता घोषित कर दिया था. सीबीआई ने अपनी जांच के बाद फरवरी में कंपनी और उसके एक्जीक्यूटिव्स पर 28 बैंकों के साथ कुल 22,842 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया था. देश के अब तक के सबसे बड़े बैंक धोखाधड़ी मामलों में से एक में एजेंसी ने इस साल फरवरी में धोखाधड़ी का एक मामला दर्ज किया था.

किस बैंक की कितनी रकम
28 बैंकों से करीब 2,842 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी में सबसे ज्यादा 7 हजार 89 करोड़ रुपए ICICI बैंक का है. वहीं 3 हजार 634 करोड़ IDBI, 2 हजार 925 करोड़ SBI, 1 हजार 614 करोड़ बैंक ऑफ बड़ौदा, 1 हजार 244 करोड़ PNB और 1 हजार 228 करोड़ इंडियन ओवरसीज बैंक का है. इन 6 बैंकों का कुल मिलाकर 17 हजार 734 करोड़ रुपए हैं. इनके अलावा 22 और बैंकों के 5 हजार 108 करोड़ रुपए हैं.

सीबीआई की जांच में पता चला है कि अग्रवाल और उनके सहयोगियों और एबीजी से जुड़ी कंपनियों द्वारा 100 से अधिक सेल कंपनियों के माध्यम से बैंकों से ली गई बड़ी रकम को भारत से विदेशों में डायवर्ट किया गया हो सकता है.

Tags: Bank fraud, CBI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *