Central Vista Project पर थोड़ी देर में आएगा Delhi HC का फैसला, क्या निर्माण पर लगेगी रोक?

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के दौरान सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट (Central Vista Project) पर काम जारी रहेगा या फिर इस पर रोक लगेगी, इस बारे में आज दिल्ली हाई कोर्ट आज 10 बजे के बाद फैसला सुनायेगा. हाई कोर्ट की चीफ जस्टिस की बेंच ने बीते 17 मई को इस मामले में सभी पक्षों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

‘गैर जरूरी काम है प्रोजेक्ट’

दिल्ली हाई कोर्ट में अनुवादक अन्या मल्होत्रा ​​और इतिहासकार सोहेल हाशमी की संयुक्त याचिका में इस प्रोजेक्ट को कोरोना महामारी के दौरान निलंबित करने की मांग की गई थी. याचिका में कहा गया था कि प्रोजेक्ट एक जरूरी कार्य नहीं है और इसे कुछ समय के लिए रोका जा सकता है.

याचिका में ये भी कहा गया था कि कोरोना के दौरान किसी भी ऐसे प्रोजेक्ट को आगे बढ़ने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए. याचिका में दलील दी गयी थी कि इस प्रोजेक्ट की वजह से महामारी के दौर में कई लोगों की जान खतरे में है. 

‘कोरोना प्रोटोकॉल का हो रहा पालन’

वहीं केंद्र सरकार के तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि प्रोजेक्ट साइट पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा है. तुषार मेहता ने सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की नियत पर सवाल उठाते हुए कहा था कि उनका जनहित बहुत सेलेक्टिव है. प्रोजेक्ट साइट से महज 2 किलोमीटर की दूरी पर चल रहे निर्माण कार्य और वहां मजदूरों की फिक्र उन्हें नहीं हो रही है.

ये भी पढ़ें: यूपी में 1 जून से कर्फ्यू में ढील, जानें क्‍या खुलेगा; क्‍या रहेगा बंद

याचिका पर मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की बेंच ने सुनवाई की है. बेंच ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद इस पर अपना फैसला देने के लिए 31 मई की तारीख तय की थी. 

क्या है सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट?

दिल्ली में इंडिया गेट के पास राजपथ के दोनों तरफ के इलाके को सेंट्रल विस्टा कहा जाता है. इसमें राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट के करीब प्रिंसेस पार्क का इलाका आता है. सेंट्रल विस्टा रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट केंद्र सरकार के इस पूरे इलाके को रेनोवेट करने की योजना को कहा जाता है. इसी प्रोजेक्ट के तहत नए संसद परिसर का निर्माण किया जाना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *