Kanjhawala Case: अंजली की मौत को लेकर दिल्ली पुलिस की जांच पर उठे कई सवाल

नई दिल्ली. बाहरी दिल्ली जिले के सुल्तानपुरी में एक्सीडेंट की वारदात में एक युवती की मौत को लेकर दिल्ली पुलिस सवालों के घेरे में है. दिल्ली पुलिस को जब मृतक लड़की अंजली के शव के सड़क पर बुरी तरह कुचले जाने की जानकारी मिली थी, तो शुरू में ही पुलिस ने एक्सीडेंट का केस मानकर एफआईआर दर्ज क्यों की, क्यों नहीं पुलिस को ये हत्या का मामला लगा या जानबूझकर दिल्ली पुलिस ने इसे एक्सीडेंट का मामला बनाया? रविवार को शाम 4 बजे के आसपास दिल्ली पुलिस डीसीपी ने अपने बयान में मीडिया को बताया था कि अंजली एक्सीडेंट के समय स्कूटी पर अकेली थी और दूसरा कोई नहीं था.

पुलिस ने युवती के साथ यौन उत्पीड़न नहीं होने की बात भी कही थी, जबकि आमतौर पर पुलिस हमेशा ये बात पोस्टमार्टम जांच की रिपोर्ट आने के बाद करती है. फिर क्यों दिल्ली पुलिस जल्दबाजी में ये सब बयान देकर केस को दूसरी दिशा में ले जा रही थी और मामले को शुरुआत से ही एक्सीडेंट मान लिया था और उसी थ्योरी पर काम कर रही है.

अंजली और निधि होटल से निकले, तो एक्सीडेंट की जगह तक पहुंचने के दौरान सैकड़ों सीसीटीवी कैमरे लगे हैं. फिर दिल्ली पुलिस ने उन फुटेज को जांच में शामिल क्यों नहीं किया. दिल्ली पुलिस को मृतक की स्कूटी दुर्घटनाग्रस्त हालत में मिली थी, तो स्कूटी चालक का सुराग तलाशने की कोशिश क्यों नहीं की गई. जिस गली में घरों के नजदीक रात को एक्सीडेंट हुआ वहां पर किसी से पूछताछ क्यों नहीं की गई?

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

निधि ने एक्सीडेंट के बाद अपना फोन नम्बर स्विच ऑफ कर दिया
दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज करते समय जल्दबाजी क्यों की, सिर्फ ये दावा क्यों किया गया कि स्कूटी चलाने वाली युवती अकेली थी, जबकि बाद में होटल के बाहर सीसीटीवी की जांच में अंजलि की दोस्त निधि भी नजर आई. निधि ने एक्सीडेंट के बाद अपना फोन नम्बर स्विच ऑफ कर दिया था और आराम से सो गई. अंजली की कॉल डिटेल में निधि और होटल का खुलासा हुआ था, जिसके बाद पुलिस रात को 2 दिन बाद उसके घर पहुंची जहां वो हालात को बेखबर बनाकर सो रही थी.

निधि के फुटेज को क्यों नहीं तलाशा गया
निधि नाम की दोस्त को खोजने वाली दिल्ली पुलिस ने इस बात को छिपाए रखा कि अंजली के साथ उसकी दोस्त भी थी. फिर 2 दिन बाद अचानक निधि की इस केस में एंट्री होती है. अंजली और निधि जब होटल से 2 किमी की दूरी पर स्कूटी में कृष्ण विहार पहुंचे थे, तो एक्सीडेंट होने के बाद निधि के फुटेज को क्यों नहीं तलाशा गया या निधि किस जगह से और कैसे स्पॉट के बाद भागी थी.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पहले ही पुलिस ने रेप को लेकर बयान क्यों किया
2 दिन तक गायब रहने वाली निधि का किरदार अचानक से दिल्ली पुलिस बाहर क्यों लेकर आई और उसने अपनी दोस्त पर ही शराब पीने से लेकर झगड़ा करने के आरोप क्यों लगाए. 3 डॉक्टरों का पैनल बनाकर जो पोस्टमार्टम किया गया था, उसकी शुरुआती रिपोर्ट को जांच टीम के सामने आने से पहले ही लीक क्यों और किसने किया, जबकि रेप जैसी घटना और केस की गंभीरता को देखते हुए पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार नहीं किया गया और मीडिया को रेप की पुष्टि नहीं होने की जानकारी पहले ही दे दी गई.

<youtubeembed cat="crime" creationdate="January 04, 2023, 15:39 IST" title="Kanjhawala Case: अंजली की मौत को लेकर दिल्ली पुलिस की जांच पर उठे कई सवाल" src="https://www.youtube.com/embed/5LYaYVakrn4" item="” isDesktop=”true” id=”5161485″ >

दिल्ली पुलिस ने उन फुटेजों को क्यों नहीं लीक किया जिसमें आरोपी लड़के मुरथल या दिल्ली बॉर्डर और सुल्तानपुरी इलाके में एंटर करके घर पहुंचे. निधि अपने घर तक कैसे पहुंची और दिल्ली पुलिस को उसका सीसीटीवी क्यों नहीं मिला, जबकि पूरे इलाके में सीसीटीवी लगे हैं. दिल्ली पुलिस ने वही सीसीटीवी फुटेज मीडिया तक पहुंचाए जहां-जहां वो अपनी कमियां छिपा सके. क्या दिल्ली पुलिस इस केस में कुछ अहम जांच का हिस्सा छिपाना चाहती है. क्या दिल्ली पुलिस इसे महज एक एक्सीडेंट बताकर केस में लीपापोती कर रही थी?

Tags: Delhi police

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *