Mumbai: गड्ढे में डूबी कार का 12 घंटे बाद हुआ रेस्क्यू, सामने आई हादसे की वजह

नई दिल्ली: मुंबई की बारिश हर साल चर्चा का विषय बनती है. हर बार की तरह इस साल भी मानसून की बारिश में हुआ एक हादसा फिर से सुर्खियों में है. रविवार को घाटकोपर इलाके का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ जिसमें एक कार कंक्रीट के फर्श में गड्ढा होने से पूरी तरह पानी में समा गई थी. अब उस गाड़ी को गड्ढे से बाहर निकाला गया है.

ऐसे चला रेस्क्यू का काम

बीती रात करीब 12 घंटे बाद क्रेन की मदद से गड्ढे में समा चुकी कार का रेस्क्यू किया गया. इसके लिए कर्मचारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी क्योंकि कार पूरी तरह पानी में डूबे चुकी थी और बाहर उसका कोई नामोनिशान तक नहीं था. एक कर्मचारी को क्रेन की मदद से गड्ढे में उतरना पड़ा, फिर उसने क्रेन की रस्सी में इस कार को बांधा, तब कहीं जाकर गाड़ी गड्ढे से बाहर आ सकी.

हादसे पर बीएमसी का कहना है कि जिस जगह यह कार डूबी वह कुआं हुआ करता था, लेकिन आवासीय सोसायटी ने सीमेंट कंक्रीट से कहीं-कहीं उसे ढक दिया. फिर जब बारिश हुई तो कंक्रीट की सड़क ढंस गई और यह हादसा हो गया. पुलिस ने बताया कि घटना रविवार सुबह घाटकोपर पश्चिम की कामा लेन में राम निवास आवासीय सोसायटी में हुई. इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है.

कंक्रीट से ढक दिया था कुआं

अधिकारी ने कहा, ‘आवासीय सोसायटी ने एक कुएं को कंक्रीट सीमेंट से बंद कर रखा था और स्थानीय निवासी अपनी कारें खड़ी करने के लिये इस जगह का इस्तेमाल करते हैं. स्थानीय पुलिस की एक टीम और ट्रैफिक पुलिस घटनास्थल पर पहुंची तब जाकर कार को बाहर निकाला गया. निवासियों की सुरक्षा के लिये घटनास्थल की घेराबंदी की गई है.

उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले आवासीय सोसायटी ने आरसीसी का काम कर कुएं के आधे हिस्से को बंद कर दिया था और इसका इस्तेमाल वाहनों को खड़ा करने के लिये किया जाने लगा. बारिश के कारण एक हिस्सा गिर गया और कार जमीन में समा गई. बीएमसी ने शहर में भारी बारिश के बाद हुई घटना की जिम्मेदारी लेने से इनकार कर दिया.

शिवसेना शासित नगर निगम ने एक बयान में कहा कि उसका इस घटना से कोई लेना-देना नहीं है. नगर निगम ने कहा, ‘इस सोसायटी के परिसर में एक कुआं है. आधे हिस्से को आरसीसी से कवर किया गया था. सोसायटी के निवासी अपनी कारों को उस इलाके में पार्क करते थे. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *