Nadav Lapid के बयान से खफा विवेक अग्निहोत्री, बोले- 'क्या वे 700 लोग प्रोपेगेंडा या वल्गर बातें कर रहे थे?'

नई दिल्ली: ‘द कश्मीर फाइल्स’ (The Kashmir Files) के निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने उनकी फिल्म को वल्गर और प्रोपेगेंडा बताने वाले इजरायली फिल्म निर्माता नादव लापिड पर हमला बोला है. विवेक अग्निहोत्री ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर करके कहा है कि आतंकवाद समर्थक और नरसंहार से इनकार करने वाले मुझे कभी चुप नहीं करा सकते.

वीडियो में, विवेक अपनी बात रखते हुए कहते हैं, ‘दोस्तों, कल IFFI गोवा में ज्यूरी ने कहा कि ‘द कश्मीर फाइल्स’ एक प्रोपेगेंडा और वल्गर फिल्म है. मेरे लिए यह कोई नई बात नहीं है, क्योंकि मेरे लिए ऐसी बातें आतंकवादी संगठन, अर्बन नक्सल, भारत के टुकड़े-टुकड़े गैंग करते रहे हैं. मेरे लिए हैरानी की बात यह है कि भारत सरकार द्वारा आयोजित, भारत सरकार के मंच पर कश्मीर को भारत से अलग करने वाले आतंकवादी लोगों के नैरेटिव को सपोर्ट किया गया है.’

वे आगे कहते हैं, ‘उस बात को लेकर भारत में ही रहने वाले कुछ भारतीयों ने उसका इस्तेमाल भारत के खिलाफ किया. आखिर ये लोग कौन हैं? ये वही लोग हैं जो इस फिल्म को तब से प्रोपेगेंडा बोल रहे हैं, जब मैंने फिल्म को लेकर रिसर्च चालू किया था. 700 लोगों के पर्सनल इंटरव्यू के बाद यह फिल्म बनी है. उन 700 लोगों के भाई-बहन या मां-बाप को सरेआम मार दिया गया, गैंगरेप किया गया, दो टुकड़ों में बांट दिया गया, क्या वे लोग प्रोपेगेंडा या अश्लील बातें कर रहे थे?’

‘द कश्मीर फाइल्स’ की लीड एक्ट्रेस पल्लवी जोशी ने मीडिया को दिए एक बयान में कहा, ‘दशकों तक अंतर्राष्ट्रीय समुदाय कश्मीरी पंडित समुदाय की पीड़ा पर चुप रहा. तीन दशकों के बाद भारतीय फिल्म इंडस्ट्री को आखिरकार एहसास हुआ कि उसे भारत की कहानी को सच्चाई और निष्पक्षता से बताने की जरूरत है.’

पल्लवी जोशी ने फिल्म में एक विश्वविद्यालय के प्रोफेसर की भूमिका निभाई है. उन्होंने अपने बयान में आगे कहा, ‘विवेक और मैं हमेशा से जानते थे कि ऐसे तत्व हैं जो स्क्रीन पर सच्चाई को देखना पसंद नहीं करेंगे.’ भारत के लोग जिस तरह ‘द कश्मीर फाइल्स’ का बचाव करने के लिए सामने आए, उससे हम अभिभूत हैं.’

Tags: The Kashmir Files, Vivek Agnihotri

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *