SCO Summit: पाकिस्तान और चीन के विदेश मंत्रियों को भारत ने दिया न्योता!

नई दिल्ली. शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की बैठक के लिए भारत ने पाकिस्तान और चीन के विदेश मंत्रियों को निमंत्रण भेजा है. भारत ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो और चीन के विदेश मंत्री किन गैंग को एससीओ विदेश मंत्रियों की बैठक के लिए आमंत्रित किया है. एससीओ सम्मेलन मई महीने में गोवा में होने वाला है. भारत ने 16 सितंबर को औपचारिक रूप से  शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की अध्यक्षता संभाली थी.

रूस समेत एससीओ के सभी सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों को भारत की तरफ से न्योता दिया गया है. भारत 2017 में स्थायी सदस्य बनने के बाद पहली बार एससीओ की अध्यक्षता कर रहा है. एससीओ का गठन 2001 में शंघाई में रूस, चीन, किर्गिज गणराज्य, कजाखस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपतियों ने किया था. भारत और पाकिस्तान 2017 में इसके सदस्य बने थे.

एससीओ एक यूरेशियाई राजनीतिक, आर्थिक और सुरक्षा संगठन है. यह भौगोलिक दायरे और जनसंख्या के मामले में दुनिया का सबसे बड़ा क्षेत्रीय संगठन है, जिसके दायरे में यूरेशिया का लगभग 60 प्रतिशत क्षेत्र, दुनिया की 40 प्रतिशत आबादी और वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 30 प्रतिशत से अधिक हिस्सा आता है.

एससीओ समूह ने मादक पदार्थों की तस्करी से जुड़े मुद्दों पर की चर्चा
इससे पहले, भारत, पाकिस्तान, चीन और शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के पांच अन्य सदस्य देशों ने बीते 18 जनवरी को अपने साझा क्षेत्रों में मादक पदार्थों की तस्करी से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया. देश के स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा ऑनलाइन आयोजित बैठक में मादक पदार्थों की तस्करी से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई.

भारत द्वारा पांच बैठकों की मेजबानी की जा रही है और यह बैठक उसी के तहत आयोजित की गई. एनसीबी ने बताया कि बैठक में रूस, चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, उज्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान और पाकिस्तान सहित सभी आठ एससीओ सदस्यों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और इसका उद्घाटन एनसीबी के महानिदेशक एस एन प्रधान ने किया.

(इनपुट पीटीआई से भी)

Tags: China, Pakistan, SCO Summit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *