Sushil Kumar को जेल में भी चाहिए प्रोटीन डाइट, कोर्ट में अर्जी लगाकर की ये मांग

नई दिल्ली: सागर धनकड़ हत्याकांड (Sagar Dhankar Murder Case) में मुख्य आरोपी ओलंपियन सुशील कुमार (Sushil Kumar) जेल में रहते हुए भी खुद को बाकी कैदियों से अलग समझता है. सुशील की सनक का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि उसने कोर्ट में अर्जी दायर कर प्रोटीन डाइट (Protein Diet) उपलब्ध कराने की मांग की है.

सुशील को काला जठेड़ी से डर

इतना ही नहीं, कुख्यात गैंगस्टर काला जठेड़ी (Kala Jathedi) से खौफजदा सुशील ने जेल में अपनी सिक्योरिटी बढ़ाने और एकांत में रहने की मांग भी कोर्ट से की है. दरअसल सुशील कुमार गैंगस्टर काला झटहेड़ी और नीरज बवाना के संपर्क में था. आरोप है कि सुशील ही झटहेड़ी और नीरज बवाना को लोगों की हैसियत और उनके कामकाज की जानाकरी देता था. पुलिस के मुताबिक 2018 से सुशील और गैंगस्टरों का गठजोड़ हुआ, लेकिन सागर धनकड़ की हत्या के दौरान सुशील ने नीरज बवाना और असौड़ा गैंग का सहारा लेकर काला झटहेड़ी के भतीजे सोनू को भी पीट दिया. जिससे काला झटहेड़ी और सुशील के बीच के रिश्तों में दरार आ गई.

ये भी पढ़ें:- किसान आंदोलन ने फिर पकड़ा जोर, साथियों की रिहाई के लिए राकेश टिकैत ने उठाया ये कदम

सुशील ने निभाई रामवीर शौकीन की भूमिका

पुलिस के मुताबिक, सुशील कुमार की भूमिका पूर्व MLA रामवीर शौकीन की तरह थी, जो पर्दे के पीछे रहकर अपने गैंगस्टर भांजे नीरज बवाना के लिए काम कर रहा था. रामवीर शौकीन भी जेल में है. गैंगस्टर संदीप काला उर्फ काला झटहेड़ी और गैंगस्टर लारेंस विश्नोई एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पांच लोगों लारेंस विश्नोई, जगदीप जग्गू भगवानपुरिया, संपत मेहरा उर्फ काली राजपूत, राजू बसोदी और रविंद्र उर्फ काली शूटर को मकोका मामले में गिरफ्तार किया है.

ये भी पढ़ें:- Lockdown के बावजूद महाराष्ट्र में हर घंटे 12 मरीजों को मौत, 24 घंटे में मिले 13659 केस

जठेड़ी की गिरोह में 300 से ज्यादा बदमाश हैं

लारेंस विश्नोई को राजस्थान के अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल से ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली लाया गया है. स्पेशल सेल ने काला झटहेड़ी के खिलाफ भी मकोका का मामला दर्ज किया था, स्पेशल सेल के एक अधिकारी के मुताबिक, लारेंस विश्नोई और काला झटहेड़ी का नेटवर्क कई देशों में फैला है, इस गिरोह में 300 से ज्यादा बदमाश हैं.

LIVE TV

Share
Facebook Twitter Pinterest Linkedin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *