Tent City Varanasi: टेंट सिटी पर काशी के संत और महंत आमने-सामने, जानें क्यों उठा विवाद?

वाराणसी. उत्तर प्रदेश के वाराणसी को टूरिज्म का हब बनाने के लिए गंगा पार रेत पर यूपी का पहला टेंट सिटी लगाया जा रहा है. बहुत ही जल्द फाइव स्टार होटल जैसी लक्जरी सुविधाओं वाली इस टेंट सिटी में पर्यटक ठहर सकेंगे. हालांकि टेंट सिटी तैयार होने से पहले ही काशी के संत- महंत इसको लेकर आमने सामने दिख रहे हैं. वाराणसी के संकट मोचन मंदिर के महंत प्रोफेसर विशंभर नाथ मिश्र ने ट्वीट के जरिए गंगा पार रेत पर गंदगी को लेकर सवाल उठाए हैं.

दरअसल, प्रोफेसर विशंभर नाथ मिश्र ने 28 सेकेंड के एक वीडियो को ट्वीट कर लिखा, ‘ 500 से ज्यादा लेबर काशी के गंगा रेत पर टेंट सिटी बनाने में लगी है और पूरे रेत को अपना शौचालय बना दिया दिया है. इस समय रेती मल से पटा हुआ है और गंगा के इस किनारे से दुर्गंध आ रही है.’

टेंट सिटी के बचाव में उतरे संत
संकट मोचन मंदिर के महंत के इसी ट्वीट के बाद अब दूसरे संत इसके बचाव में उतर आए हैं. सतुआ बाबा आश्रम के महंत संतोष दास ने कहा,’सवाल उठाने वाले संत-महंतों को ये पता होगा कि टेंट सिटी कोई नया नहीं बल्कि कई वर्षों से कुम्भ के दौरान प्रयागराज में संगम तट पर लगाया जाता है और वहां भी लाखों लोग आते हैं. टेंट सिटी में संत महंत रहते हैं और कल्पवास करते हैं. वैसे ही अध्यात्म को यहां टूरिज्म से जोड़ा जा रहा है. इस टेंट सिटी में रहने वाले लोग यहां गंगा स्नान कर बाबा विश्वनाथ का दर्शन करेंगे और काशी के आध्यात्म में रंग जाएंगे.’

टॉयलेट की है व्यवस्था
वहीं, इस मामले में वाराणसी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष अभिषेक गोयल ने फोन पर बातचीत में बताया कि वहां पर सार्वजनिक शौचालय की व्यवस्था है. जहां तक लेबर के खुले में शौच की बात है, तो अब तक ऐसी कोई शिकायत नहीं आई है. अगर शिकायत आती है, तो उसकी जांच कराई जाएगी.

पीपीपी मॉडल पर तैयार हो रहा टेंट सिटी
बताते चलें कि वाराणसी में पीपीपी मॉडल पर टेंट सिटी का निर्माण कराया जा रहा है, जहां लग्जरी कॉटेज में पर्यटक गंगा किराने रह सकेंगे. इस टेंट सिटी में वीडीए सहित कई अन्य विभागों ने मिलकर बुनियादी सुविधाओं को जोड़ा है. इसके बाद एक निजी कम्पनी के जरिए टेंट सिटी बसाया जा रहा है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : January 02, 2023, 15:18 IST

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *