Weather: देश में 31 साल बाद पड़ी है ऐसी शीतलहर, इन 5 राज्यों के लिए अलर्ट जारी, जहरीली हवा में सांस लेना भी मुश्किल

हाइलाइट्स

दिल्ली में पहले चरण में 5 से 9 जनवरी तक लगातार पड़ी शीतलहर
मौसम विभाग ने 26 जनवरी से पहले जताई बारिश की आशंका
दिल्ली की वायु गुणवत्ता 338 (बहुत खराब) पर पहुंची

नई दिल्ली: भारत में ठंड (Cold) अपने चरम पर है. उत्तर भारत मे कड़ाके की ठंड पड़ रही है. सर्दी (Winter) का सितम लगातार जारी है. लोग ठंड से बचने के लिए आलाव जला रहे हैं, रूम हीटर (Room Heater) का उपयोग कर रहे हैं. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के बुलेटिन के अनुसार, अगले तीन दिनों तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में शीतलहर (Cold Wave) की स्थिति बहुत संभव है. दो बैक-टू-बैक पश्चिमी विक्षोभों के कारण गुरुवार को शीतलहर की स्थिति के साथ राजधानी में सर्दी की ठंड से कुछ राहत मिली.

दिल्ली के सफदरजंग स्टेशन के साथ शहर के अधिकांश हिस्सों में पारा 3 से 4 डिग्री बढ़ गया. न्यूनतम तापमान 5.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. यह सामान्य से एक डिग्री कम, लेकिन यह बुधवार के न्यूनतम 2.6 डिग्री सेल्सियस से तीन डिग्री अधिक था. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने शुक्रवार की सुबह कुछ स्थानों पर बूंदाबांदी या हल्की बारिश की भविष्यवाणी की है. IMD ने कहा कि 23 से 25 जनवरी के बीच और अधिक बारिश होने की आशंका है. यह दर्शाता है कि 26 जनवरी के बाद फिर से ठंड बढ़ने की संभावना है.

शीतलहर को लेकर क्या कहते हैं मौसम विभाग के आंकड़े
IMD के आंकड़ों से पता चलता है कि इस साल, दिल्ली के निवासियों ने जनवरी के अधिकांश समय में असामान्य रूप से लंबे समय तक ठंड का अनुभव किया है. बुधवार को सफदरजंग में 2.6 डिग्री सेल्सियस के तापमान के साथ दिल्ली के लिए दूसरे चरण में लगातार तीसरा शीत लहर का दिन था और महीने में अब तक का यह आठवां शीत लहर का दिन था.

IMD के आंकड़ों के अनुसार शीतलहर के सबसे अधिक दिन, 12 शीत लहर जनवरी 2008 में दर्ज किए गए थे. इसके अलावा 1997, 1998 और 2021 में, दिल्ली ने पूरे महीने में शीतलहर के सात दिन दर्ज किए. गौरतलब है कि IMD उस क्षेत्र में शीत लहर का वर्गीकरण करता है जब न्यूनतम तापमान सामान्य स्तर से 4.5 डिग्री या उससे अधिक होता है, या जब यह 4 डिग्री सेल्सियस या उससे कम हो जाता है.

दिल्ली का तापमान बढ़ा
इस साल दिल्ली में 5 जनवरी से 9 जनवरी के बीच लगातार पांच दिनों की लंबी शीत लहर देखी गई. जो पिछले 31 वर्षों में एक चरण में सबसे अधिक दिन है. आखिरी बार दिल्ली ने 2013 में इसी तरह की सर्दी का सामना किया था, जब लगातार पांच दिन शीत लहर दर्ज की गई थी. गुरुवार को, शहर का अधिकतम तापमान भी बढ़ गया, जो सामान्य और बुधवार के अधिकतम 19.6℃ से तीन डिग्री अधिक 22.6℃ था.

पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव को देखते हुए IMD ने 23 जनवरी को देर रात बूंदाबांदी और 24 जनवरी को हल्की बारिश की संभावना जताई है. 25 जनवरी को फिर से बूंदाबांदी की संभावना है. जबकि अधिकतम तापमान 25 जनवरी तक 21℃ और 23℃ के बीच रहने का अनुमान है, दिल्ली का न्यूनतम तापमान और बढ़ने का अनुमान है और 20 से 25 जनवरी के बीच यह 9℃ से 10℃ के बीच रहने का अनुमान है.

Delhi Weather: 15 सालों में सबसे ज्यादा दिन शीतलहर, बारिश को लेकर अलर्ट जारी, जानें अब कैसा रहेगा मौसम का हाल

वायु गुणवत्ता खराब हुई
दिल्ली की वायु गुणवत्ता गुरुवार को और खराब हो गई. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के शाम 4 बजे के बुलेटिन के अनुसार वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 338 (बहुत खराब) की रीडिंग को छू गया. बुधवार को रीडिंग 306 (बहुत खराब) थी. पूर्वानुमान से पता चलता है कि बारिश और हवा की गति में वृद्धि के कारण दिल्ली का AQI 20 जनवरी तक “खराब” होने की संभावना है.

<youtubeembed cat="nation" creationdate="January 20, 2023, 08:51 IST" title="Weather: देश में 31 साल बाद पड़ी है ऐसी शीतलहर, इन 5 राज्यों के लिए अलर्ट जारी, जहरीली हवा में सांस लेना भी मुश्किल" src="https://www.youtube.com/embed/N0EBKI-Ijrw" item="” isDesktop=”true” id=”5250179″ >

आपको बता दें कि AQI 0-50 के बीच अच्छा, 51 और 100 के बीच संतोषजनक, 101 और 200 के बीच मध्यम, 201 और 300 के बीच खराब, 301 और 400 के बीच बहुत खराब और 400 से अधिक पर गंभीर माना जाता है.

Tags: Delhi weather, Delhi Weather Alert, Weather Alert, Winter at peak

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *