World Tourism Day: सबसे अलग हैं ग्‍वालियर के ये 6 पर्यटन स्थल, आप यहां जाने से खुद को नहीं रोक पाएंगे

ग्वालियर दुर्ग के मुख्य द्वार पर प्रवेश करते ही एक महल दिखाई देता है, जिसका नाम गुजरी महल है. यह महल राजा मानसिंह और रानी मृगनयनी के प्रेम की निशानी है, जिसका निर्माण राजा मानसिंह में 1486 में करवाया था. प्रेम की अनोखी दास्तान के अवशेष आज भी इस महल में मौजूद हैं. बाद में इसे संग्रहालय के रूप में तब्दील कर दिया गया था, जिसमें देश के विभिन्न स्थानों पर खुदाई के दौरान मिले प्राचीन अवशेषों को संभाल कर रखा गया है. राजा- रानी की प्रेम निशानी को देखने और महसूस करने के लिए यहां भारी संख्या में पर्यटक आते हैं.

Share
Facebook Twitter Pinterest Linkedin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *