पिज्‍जा में टॉपिंग के काम आने वाले ब्‍लैक ऑल‍िव को न समझे बेकार, इसे खाने के बड़े फायदे

पिज्‍जा में टॉपिंग के काम आने वाले ब्‍लैक ऑल‍िव को न समझे बेकार, इसे खाने के बड़े फायदे

<!–

–>


विटामिन
ई”
का
महत्वपूर्ण
स्रोत

विटामिन

एक
एंटीऑक्सिडेंट
पोषक
तत्व
है
जो
इम्‍यून
सिस्‍टम
को
सर्पोट
करता
है
और
शरीर
की
कोशिकाओं,
विशेष
रूप
से
मस्तिष्क,
फेफड़े
और
लाल
रक्त
कोशिकाओं
को
क्षति
से
बचाता
है।
2006
में “जर्नल
ऑफ़
न्यूट्रिशन”
में
प्रकाशित
राष्ट्रीय
स्वास्थ्य
और
पोषण
परीक्षा
सर्वेक्षण
के
परिणामों
के
अनुसार,
अधिकांश
अमेरिकियों
के
आहार
में
विटामिन
ई,
आयरन
और
पोटेशियम
के
साथ,
एक
पोषक
तत्व
की
कमी
है।
एक
कप
ब्‍लैक
ऑल‍िव
में
20
प्रतिशत
प्रति
दिन
के
अनुसार
पोषक
तत्‍व
मौजूद
होता
है।

<!–

–>

आंखों के ल‍िए अच्‍छा

आंखों
के
ल‍िए
अच्‍छा

अगर
आप
आंखों
की
समस्या
जैसे
कमजोर
नजर,
आंखों
के
आसपास
दर्द,
सूखी
पलकें,
गुलाबी
आंखें
या
कंजक्टिवाइटिस
आदि
से
पीड़ित
हैं
तो
काले
जैतून
का
सेवन
करें।
काले
जैतून
में
विटामिन

होता
है
जो
आंखों
के
स्वास्थ्य
के
लिए
बहुत
अच्छा
होता
है।
यह

केवल
दृष्टि
में
सुधार
करता
है
बल्कि
ग्लूकोमा,
मोतियाबिंद,
धब्बेदार
अध:
पतन
और
अन्य
उम्र
से
संबंधित
नेत्र
विकारों
से
लड़ने
में
भी
कारगर
साबित
होता
है।

<!–

–>

हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है

हृदय
स्वास्थ्य
को
बढ़ावा
देता
है

ब्‍लैक
ऑल‍िव
में
स्वस्थ
मोनोअनसैचुरेटेड
वसा
की
उच्च
मात्रा
होती
है।
पके
जैतून
लगभग
8
ग्राम
कुल
मोनोअनसैचुरेटेड
वसा
प्रदान
करते
हैं।
अमेरिकन
हार्ट
एसोसिएशन
का
कहना
है
कि
लोगों
द्वारा
खाए
जाने
वाले
भोजन
में
वसा
एक
दिन
में
खाने
वाली
कैलोरी
के
25
से
30
प्रतिशत
से
अधिक
नहीं
होनी
चाहिए,
और
उनमें
से
अधिकांश
वसा
मोनोअनसैचुरेटेड
या
पॉलीअनसेचुरेटेड
वसा
से
होना
चाहिए।
मोनोअनसैचुरेटेड
वसा
आपके
रक्त
में
खराब
कोलेस्ट्रॉल
के
स्तर
को
कम
करने
और
हृदय
रोग
और
स्ट्रोक
के
जोखिम
को
कम
करने
में
मदद
कर
सकता
है।
मोनोअनसैचुरेटेड
फैटी
एसिड
इंसुलिन
के
स्तर
और
रक्त
शर्करा
नियंत्रण
को
भी
लाभ
पहुंचा
सकते
हैं।

<!–

–>

कैंसर का खतरा टालता है

कैंसर
का
खतरा
टालता
है

जर्मन
कैंसर
रिसर्च
सेंटर
द्वारा
किए
गए
एक
शोध
में
पाया
गया
कि
जैतून
कैंसर
के
जोखिमों
को
कम
करने
में
सहायक
साबित
हो
सकता
है।
दरअसल,
जैतून
में
स्क्वालीन
और
टर्पेनॉयड
जैसे
एंटीकैंसर
प्रभाव
वाले
खास
तत्व
मौजूद
होते
हैं।
इन
तत्वों
की
मौजूदगी
के
कारण
ही
जैतून
का
उपयोग
कैंसर
के
जोखिम
को
कुछ
हद
तक
कम
करने
में
मददगार
साबित
हो
सकता
है।

<!–

–>

ज्‍यादा होता है इसमें सोडियम

ज्‍यादा
होता
है
इसमें
सोडियम

हालांकि
ब्‍लैक
ऑल‍िव
में
सोडियम
और
कैलोरी
में
अपेक्षाकृत
अधिक
होते
हैं।
पके
जैतून
के
100
ग्राम
सेवन
से
115
कैलोरी
और
लगभग
735
मिलीग्राम
सोडियम
मिलता
है।
सोडियम
का
सेवन
सीमित
करना
महत्वपूर्ण
है
क्योंकि
नमक
की
खपत
में
वृद्धि
रक्तचाप
के
उच्च
स्तर
से
जुड़ी
है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *